पटनाः कृषि कानून दिल्ली बॉर्डर किसान कई दिनों से आंदोलन कर रहे हैं. अब इसकीआंच बिहार तक पहुंच गई है. महागठबंधन ने इस मुद्दे को उछालते हुए केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आज गांधी मैदान में किसान आंदोलन के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

हालांकि, जिला प्रशासन की तरफ से बगैर अनुमति के धरना-प्रदर्शन करने की वजह से कई नेताओं पर गांधी मैदान थाने में मामला दर्ज किया गया है. मजिस्ट्रेट सह श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी राजीव दत्त वर्मा ने गांधी मैदान में एफआईआर दर्ज कराई है. कोविड नियम तोड़ने के आरोप में तेजस्वी यादव और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत 18 प्रमुख नेताओं के खिलाफ नामजद FIR दर्ज कराया गया है.

500 कार्यकर्ता बने आरोपी

एफआईआर में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, विधायक सह प्रदेश प्रधान महासचिव आलोक मेहता, रामानंद यादव, पूर्व मंत्री श्याम रजक, रमई राम, पूर्व विधायक शक्ति सिंह, मृत्युंजय तिवारी, अनिल कुमार, रामबली यादव, सुबोध कुमार यादव, उर्मिला ठाकुर, अनिता देवी, कांग्रेस नेता मदन मोहन झा, अनिल शर्मा, केडी यादव, चंदेश्वर सिंह, रामनरेश पांडेय सहित 500 कार्यकर्ताओं को आरोपी बनाया गया है.

कई धाराओं में केस दर्ज

नेताओं पर आईपीसी की धारा 188, 145, 269, 279 और 3 एपेडेमिक डिजीज एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है. तेजस्वी ने आंदोलन को संबोधित करते हुए कहा कि किसान शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे हैं, इसके बाद भी उन पर लाठीचार्ज किया जा रहा है. वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया जा रहा है.

नीतीश सरकार को घेरा

तेजस्वी ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार में जहां मंडियों का सवाल है, वह 2006 में ही बंद कर दिया गया. हालत यह हो गई है कि बिहार के किसान खेती छोड़ मजदूरी करने लगे हैं. बिहार में बस 2 फसलों पर एमएसपी है. धान का एमएसपी मात्र 1800 रुपये है. कही भी धान की खरीद नहीं हो रही है. लेकिन सीएम झूठ बोलते हैं कि खरीद हो रही है. कितने मूल्य पर किसान से फसल खरीदी जा रही है उसे सार्वजानिक करें.’

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here