पटनाः आज राजधानी पटना में एक सामाजिक संगठन जन सेवा संघ के द्वारा महा परिवर्तन आंदोलन को लेकर एक प्रेस वार्ता की गई. जिसमें वक्ता के रूप में पूर्व डीजी (जेल एवं सुधार) तेलंगाना एवं वर्तमान में पंजाब सरकार के सलाहकार वीके सिंह, पूर्व आईपीएस मौजूद रहे.

प्रेस वार्ता में मुख्यतः विवादहीन समाज,बेहतर शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था, ईमानदार प्रतिनिधि के चुनाव और भ्रष्टाचार का पुरजोर विरोध के ऊपर चर्चा की गई. पूर्व डीजी ने बताया कि उन्होंने सीएम को काफी सारे पत्र लिखकर सुझाव दिया है कि बिहार को कम समय में कैसे सुधारा जा सकता है. लेकिन बिहार को सुधारने से ज्यादा चुनाव जीतना हर राजनेता के लिए जरूरी हो गया है. पूर्व डीजी ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने एसटीएफ बिहार को देश का सर्वश्रेष्ठ कमांडो बनाया था उसी तरह बिहार को भी सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाना है.

4 मार्च से करेंगे आंदोलन

पूर्व डीजी की मानें तो जिस दुर्दशा को 15 साल के सुशासन में सुधारा सकता था. फिर भी 15 महीने में इसे सुधारा जा सता है. उन्होंने बताया कि हमारा आंदोलन आज से शुरू हो गया है, 4 मार्च से 15 मार्च तक बक्सर, भोजपुर, अरवल जहानाबाद एवं औरंगाबाद में होगा. इसी तरह पूरे बिहार में लोगों को जागरूक करेंगे. उन्होंने कहा कि उनका किसी किसी राजनीतिक पार्टी से कोई दुश्मनी नहीं है या फिर वो राजनीति करने नहीं आये हैं.

बिहार के एसटीएफ को बनाया था सर्वश्रेष्ठ

वीके सिंह ने दावा किया कि जिस तरह से बिहार एसटीएफ को सर्वश्रेष्ठ कमांडो बनाया था लेकिन सरकार ने बीच में ही रोक दिया और मेरा तबादला कर दिया गया. उसी अधूरा काम को पूरा करना है. इस बार एसटीएफ के लिए नहीं पूरे बिहार के लिए आया हूं और स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद मैं आया हूं. दूसरी बार जब मैं आया हूं तो मैं अपना काम पूरा करके जाऊंगा.

पूरे बिहार में होगा आंदोलन

हमारा कोई संगठन नहीं है हमारे साथ पूरे बिहार की जनता है और काफी सारे संगठन हैं जो हमारे साथ जुड़ेंगे और हमारी मदद करेंगे लेकिन हमारा कोई संगठन नहीं है हम पूरे बिहार के लोगों का साथ यह आंदोलन करेंगे पूरे बिहार के लोगों का साथ होगा इस महा परिवर्तन आंदोलन में क्योंकि यह किसी एक का नहीं पूरे बिहार को सुधारने का संकल्प है.

नेताओं ने बीमारू राज्य बना दिया

हम यहां आना समाज सेवा करने आए हैं और ना राजनीति. हम यहां सामाजिक क्रांति की वह बयार बहाना चाहते हैं जिसे सरकार एवं राजनीतिक दिशा एवं दशा बदल सके. 40 साल की धर्मनिरपेक्ष सरकार 15 साल की सामाजिक न्याय की सरकार बन 15 साल के सुशासन की सरकार ने हमें केवल गरीबी, बेरोजगारी, जातिवाद एवं जर्जर कानून व्यवस्था दी है. बिहार आज देश में सबसे पिछड़ा एवं बीमारू प्रदेश है यहाँ के राजनेता अपनी रोटी सेक रहे हैं.

सामाजिक क्रांति की जरूरत 

पूर्व आईपीएस ने कहा कि हमें पूरी कहानी का स्वरूप बदलना होगा और यह काम वर्तमान स्थिति में कोई राजनेता या राजनीतिक दल नहीं कर सकते. हमें एक सामाजिक क्रांति की जरूरत है. मुझे पूरा विश्वास है कि सामाजिक क्रांति जरुर सफल होगी. फिर राजनीति बेमानी हो जाएगी क्योंकि वह निजी सनक एवं निजी लाभ के लिए नहीं बल्कि प्रशासनिक मापदंडों पर आधारित होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here