यदि आप जनधन खाता धारकों में शामिल नहीं हैं तो बिना देर किए जल्द से जल्द जनधन खाता खुलवा लीजिए, क्योंकि केंद्र सरकार अब आपको आर्थिक सहायता देने जा रही है। अब हर महीने जनधन खाताधारकों को 3,000 रुपये मिलेंगे।

सरकार द्वारा जो भी स्कीम के तहत सीधे पैसा जनता के खाते में जमा होता है, उन सभी स्कीम का पैसा सबसे पहले जनधन खातों में ही ट्रांसफर किया जाता है। दरअसल, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत सरकार खाताधारकों को तीन हजार रुपए दे रही है। इस योजना में नाम मात्र का योगदान देना होगा, लेकिन इससे बुढ़ापे में पेंशन का इंतजाम हो जाएगा।

जनधन खाता

जनधन खाता धारकों को पूरे 3000 रुपये प्रति माह

योजना के तहत सरकार द्वारा जनधन खाता धारकों को पूरे 3000 रुपये प्रति माह भेजती है। इस योजना के तहत मिलने वाले पैसों को पेंशन के रूप में दिया जाता है। हर महीने 3 हजार रुपए देने वालों के लिए कुछ शर्तें हैं। इस स्कीम का फायदा असंगठित सेक्टर में काम करने वाले लोगों को मिल पाएगा। स्ट्रीट वेंडर, मिड-डे मील वर्कर, हेड लोडर, ईंट भट्ठा मजदूर, मोची, कूड़ा बीनने वाले, घरेलू कामगार, धोबी, रिक्शा चालक, भूमिहीन मजदूर इस योजना का लाभ ले सकते हैं। अगर आपकी मासिक आय 15,000 रुपये से कम होगी तब ही आप इसका लाभ प्राप्त सकते हैं।

केंद्र सरकार की मानधन योजना में 18 साल से लेकर 40 साल तक का कोई भी व्यक्ति भाग ले सकता है। जब कोई व्यक्ति 60 साल का हो जाता है तब उसको इस स्कीम का पैसा ट्रांसफर किया जाता है। इसमें सालाना 36000 रुपये ट्रांसफर किए जाते हैं। इस योजना के तहत अलग-अलग उम्र के हिसाब से हर महीने 55 रुपये से 200 रुपये का योगदान करना होता है। अगर आप इस योजना से 18 साल की उम्र में जुड़ते हैं तो आपको हर महीने 55 रुपये देने होंगे। 30 साल वालों को 100 रुपये और 40 साल वालों को 200 रुपये देने होंगे।

इस स्कीम में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपके सेविंग बैंक अकाउंट या जनधन अकाउंट के आईएफएस कोड की जरूरत होगी। इसके अलावा आपके पास आधार कार्ड और एक वैध मोबाइल नंबर होना चाहिए।

पहले श्रम मानधन योजना में रजिस्टर करें। इसके बाद जनधन अकाउंट की ऑनलाइन वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। स्थानीय बैंकों में भी रजिस्ट्रेशन करा कर खाता खुलवा सकते हैं। इसके लिए आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए। बचत अकाउंट की जानकारी भी उपलब्ध करानी होगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.