बिहार विधान सभा में कैबिनेट विस्तार के साथ ही एनडीए के सभी दलों में खिंचतान वाली स्थिति है. बीजेपी जेडीयू के कई विधायक रूठे हुए हैं. रेस में नाम के बाद आखिरी समय में लिस्ट से बाहर हो जाने का कसक जाहिर कर रहे हैं. शपथ ग्रहण समारोह में गोपालपुर विधायक भी शामिल थे. उन्हें लगा था कि मंत्री बनाया जाएगा, पर निराश और मायूस गोपालपुर विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल गुरुवार को पटना से अपने क्षेत्र में लौट गए.

जेडीयू विधायक ने मंत्री नहीं बनाने पर पार्टी आलाकमान पर जमकर भड़ास निकाली. प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से बातचीत में कहा “मेरा तो चांस बनता है”. नीतीश बाबू के साथ हम शुरू से हैं और हम चार बार विधायक रहे. 2015 में तो हमको नीतीश ने यह कह कर टाल दिया की सीट कम है और फिर ब्रह्मदेव बाबू जो निर्दलीय उम्मीदवार कुदरा छाप से उनको मंत्री बना दिया.

विधायक ने आगे कहा- वह सोचते हैं कि हम इस जाति को बना देंगे तो वे जात हमारा हो जाएगा, हम उस जाति को बना देंगे तो वे जात हमारा होगा. परंतु हम लोग तो इनका सपोर्टर हैं. हम लोग इनको छोड़कर कहां जाएंगे. जहां तक सवाल बीजेपी का है तो यह पार्टी हमको पचता नहीं है. आरजेडी में हम जाएंगे नहीं. रहना है इसी पार्टी में मंत्री बनाया ना बनाएं.

ये भी पढ़ेंः बीजेपी कैंडिडेट की हार पर जदयू विधायक का खुलासा, कहा-मुझे पीएम के मंच पर नहीं किया था नमस्कार, तो…

हालांकि, जेडीयू विधायक ने मंत्री बनने की उम्मीद नहीं छोड़ी है. उनका कहना है कि अभी कई मंत्रालय बाकी है हो सकता है मुझे मिल जाए और नहीं भी मिले मुझे दिक्कत नहीं है. प्रदेश अध्यक्ष जी से मिलकर अनुरोध करेंगे कि मुझे किसान प्रकोष्ठ का अध्यक्ष बना दिया जाए उसी में हम संतुष्ट रहेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here