हाल ही में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सबसे महत्वपूर्ण और महान खिलाड़ियों में से एक मिताली राज ने क्रिकेट से सन्यास की घोषणा की है। उन्होंने अपने 23 वर्ष के लंबे क्रिकेट के सफर का अंत किया और अपने जीवन की एक नई पारी की शुरुआत करने का फैसला लिया है। मिताली राज महिला वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं, जिनके नाम 7,805 रन हैं।

अब उनके सन्यास के बाद वनडे क्रिकेट की कप्तानी भी हरमनप्रीत कौर को सौंपी गई है। गौरतलब है कि हरमनप्रीत कौर पहले से ही भारतीय महिला टी20 टीम की कप्तानी संभाल रही थीं। भारतीय महिला टीम अब श्रीलंका के साथ सीरीज खेलने वाली है और इस सीरीज के लिए टीम की घोषणा के समय हरमनप्रीत को कप्तानी सौंपी गई है।

मिताली राज

Also Read : T20 Cricket : टी20 क्रिकेट इतिहास में तीन हैट्रिक लेने वाले एकमात्र गेंदबाज अमित मिश्रा

मिताली राज और झूलन गोस्वामी के बिना श्रीलंका दौरे पर भारतीय महिला क्रिकेट टीम

हरमनप्रीत कौर की अगुवाई वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम श्रीलंका के खिलाफ 23 जून से शुरू हो रही सीमित ओवरों की श्रृंखला के लिये रविवार को वहां पहुंच चुकी है। भारतीय टीम क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने वाली मिताली राज और अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी जैसी वरिष्ठ खिलाड़ियों के बिना इस दौरे पर गयी है। भारत की यह युवा टीम पल्लेकेले और दांबुला में क्रमश: तीन एकदिवसीय और इतने ही टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलेगी।

श्रीलंका दौरे से पहले एक पत्रकार सम्मेलन को संबोधित करते हुए हरमनप्रीत कौर ने बताया की किस प्रकार मिताली राज के संन्यास ले लेने से उन्हें टीम को संभालने में आसानी होगी। हरमनप्रीत ने कहा की “मैं काफी लंबे समय से टी 20 में कप्तानी कर रही हूं और अब मुझे वनडे की कप्तानी की भी जिम्मेदारी मिली है। मेरे अनुसार अब मेरे लिए यह और आसान हो जाएगा।”

उन्होंने आगे कहा की “दो अलग अलग फॉर्मेट में दो अलग अलग कप्तान होने से समस्या होती है। दोनो की अलग विचारधारा और मानसिकता होती थी, लेकिन अब मैं अपने खिलाड़ियों को आसानी से समझा पाऊंगी कि मैं उनसे क्या चाहती हूं और उनके लिए भी अब थोड़ी आसानी हो जायेगी।” साथ ही इसके बाद उन्होंने मिताली राज के बेहतरीन करियर की तारीफ भी की।

Leave a comment

Your email address will not be published.