जहानाबादः छत्तीसगढ़ के बीजापुर में बिहार का एक लाल शहीद हो गया. शहीद जवान गोपाल शर्मा का पार्थिव शरीर जहानाबाद जिले स्थित उनके पैतृक  कल्पा गांव पहुंचा, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया. शहीद बेटे की एक झलक पाने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा.

इस दौरान हर किसी के आंखों में आंसू छलक पड़े. शहीद जवान को आखिरी विदाई देने के लिए सीआरपीएफ के अधिकारी और जवान पहुंचे, जहां सभी ने अपने शहीद साथी को आखिरी सलामी दी. शहीद गोपाल का पार्थिव शरीर कल्पा पहुंचते ही पूरे गांव में कोहराम मच गया. शहीद बेटे का शव देख मानो मां का कलेजा फट पड़ा. वहीं, पिता के आंसू भी सूख चुके थे. वहीं, अपने लाल के शव को देखकर परिजनों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

ये भी पढ़ेंः सन्यास के एलान के बाद नीतीश कुमार ने बुलाई कोर ग्रुप की बैठक, ले सकते हैं बड़ा फैसला

बता दें कि 24 वर्षीय गोपाल शर्मा की दिसंबर में शादी होने वाली थी. इसके लिए घरवाले शादी की तैयारी में जुटे थे. गोपाल के परिजनों ने बताया कि वो जल्द ही छुट्टी लेकर घर आने वाले थे. अचानक, गोपाल के शहीद होने की खबर मिली, तो घरवालों के सारे सपने टूट कर बिखर गया.

नक्सली हमले में झुलस गया था जवान

परिजनों ने बताया कि तीन वर्ष पहले ही गोपाल शर्मा ने सीआरपीएफ ज्वाइन किया था. उनकी पोस्टिंग छत्तीसगढ़ में थी. ड्यूटी के दौरान छत्तीसगढ़ में नक्सलियों द्वारा बिछाए गए बिजली के तार की चपेट में आने से बुरी तरह झुलस गए. इलाज के दौरान उनका निधन हो गया. जवान गोपाल के शहीद होने से पूरा गांव गमगीन है.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here