0Shares

IND vs ENG : इंग्लैंड और भारत के बीच एजबेस्टन में खेले गये पांचवे टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने सात विकेट से जीत दर्ज कर सीरीज को 2-2 से बराबर कर दिया है। तीन दिन मेजबान टीम के खिलाफ शानदार प्रदर्शन के बाद चौथी पारी में यह मुकाबला इंग्लैंड की टीम के पक्ष में चला गया। इंग्लैंड की टीम ने इसी तरह न्यूजीलैंड को भी सीरीज में हराया था।

टीम के नियमित कप्तान रोहित शर्मा के कोरोना संक्रमित होने के कारण जसप्रीत बुमराह ने कमान संभाली। भारत की हार के बाद अस्थाई कैप्टन जसप्रीत बुमराह ने कहा कि दोनों टीमों ने अच्छा प्रदर्शन किया। जसप्रीत बुमराह ने पहली पारी में तीन और दूसरी पारी में दो विकेट लिए है। उन्होंने इस दौरान ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा की भी तारीफ की। साथ ही कप्तानी के अनुभव को शानदार बताया।

IND vs ENG

Also Read : Test Cricket : जानें, कौन हैं टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले पांच बल्लेबाज

IND vs ENG : खेल आपके पक्ष में होने के बाद भी हार मिल सकती है

भारतीय क्रिकेट टीम के इंग्लैंड के खिलाफ कप्तान जसप्रीत बुमराह ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में ये ही सबसे बड़ी चीज है कि तीन दिन तक खेल आपके पक्ष में होने के बाद भी हार मिल सकती है। जसप्रीत बुमराह ने कहा, “मैं इससे बहुत आगे नहीं जाऊंगा (खुद को ऑलराउंडर कहने के लिए)। टेस्ट क्रिकेट की यही खूबी है, भले ही आपके पास तीन अच्छे दिन हों। हम कल बल्ले से कम पड़ गए और यहीं हमने विपक्षी टीम को मैच को हमसे दूर जाने दिया। अगर, और, लेकिन हमेशा हो सकते हैं। पहले मैच में बारिश नहीं होती तो हम सीरीज जीत सकते थे, लेकिन इंग्लैंड ने वास्तव में अच्छा खेला। हमने सीरीज ड्रॉ कर दी है और दोनों टीमों ने बहुत अच्छा क्रिकेट खेला और यह एक उचित परिणाम था”।

जसप्रीत बुमराह ने रविंद्र जडेजा और ऋषभ पंत के खेल की भी काफी तारीफ की। दोनों खिलाड़ियों ने पहली पारी में 100 रन के अंदर विकेट गिर जाने के बाद शतक बनाया है। इस पर जसप्रीत बुमराह ने कहा, “ऋषभ पंत ने चांस लिया। उन्होंने और जड्डू ने अपने जवाबी हमले से हमें खेल में वापसी दिलायी। हम खेल में आगे थे। वह अपने मौके लेता है, खुद का समर्थन करता है और उसके लिए बहुत खुश होता है। द्रविड़ हमेशा हमारा मार्गदर्शन करने और हमारा समर्थन करने के लिए मौजूद हैं। हम अपनी गेंदबाजी लाइन में थोड़ा सख्त हो सकते थे और परिवर्तनशील उछाल का इस्तेमाल कर सकते थे। कप्तानी का भविष्य वह नहीं है जो मैं तय करता हूं। मुझे जिम्मेदारी पसंद है। यह एक अच्छी चुनौती थी, एक नई चुनौती। टीम का नेतृत्व करना सम्मान की बात थी और एक शानदार अनुभव रहा है”।

Leave a comment

Your email address will not be published.