0Shares

Industrial Production Cluster In Gaya : अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारा परियोजना के तहत गया में 1,670 एकड़ भूमि पर औद्योगिक उत्पादन क्लस्टर विकसित किया जाएगा। इस कार्य के लिए 1,200 एकड़ जमीन मुहैया करायी गई है। इसके लिए उद्योग विभाग ने इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट अथॉरिटी (ईडीए) को दो किश्तों में 83 करोड़ रुपये दिए हैं। साथ ही यह आश्वासन दिया गया है कि बिहार के औद्योगीकरण को सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार सभी योजनाओं को सक्रिय रूप से लागू करेगी।

डोभी, गया में औद्योगिक कॉरिडोर की स्थापना उद्योग विभाग और BIADA द्वारा राष्ट्रीय पश्चिमी चंपारण में कपड़ा उद्योग के लिए 1,719 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। मंत्री ने पीएम गति शक्ति पार्ट 2 के लिए राज्य को 503 करोड़ रुपये प्रदान किए और कहा कि बिहार को देश का कपड़ा केंद्र बनाया जायेगा।

Industrial Production Cluster In Gaya

Also Read : Grant For Startup In Bihar : आर्थिक समस्या के कारण नहीं शुरू कर पा रहे व्यापार? बिहार में इन ट्रेडों में स्टार्टअप के लिये राज्य सरकार देगी अनुदान

Industrial Production Cluster In Gaya : राज्य के औद्योगीकरण को एक बड़ा प्रोत्साहन

उद्योग मंत्री शाहनवाज ने कहा कि बिहार में कपड़ा उद्योग के लिए पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित जनशक्ति है। कुशीनगर हवाई अड्डे के निर्माण के उत्कृष्ट सड़क संपर्क के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय हवाई संपर्क भी होगा। जिस तरह बिहार में उद्योग के लिए एक बड़ा भूमि बैंक उपलब्ध है, उसी तरह केंद्र की सभी विभिन्न परियोजनाओं के लिए 1,200 करोड़ रुपये का प्रावधान राज्य के औद्योगीकरण को एक बड़ा प्रोत्साहन होगा। बैठक की अध्यक्षता कर रही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी बिहार के लिए फ्रेंड पार्क का पक्ष लिया। उन्होंने कहा कि बिहार में कपड़ा उद्योग की अपार संभावनाएं हैं। बैठक में 6 राज्यों के मुख्यमंत्रियों और 18 राज्यों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

गौरतलब है कि बिहार में इन दिनों उद्योगों की स्थापना तेजी से हे रही हे। इसमें राज्य और केंद्र दोनों ही सरकारों के प्रयास शामिल हैं। राज्य के लोगों के लिये रोजगार के सुअवसर उपलब्ध कराने के लिये यह कदम उठाया गया है। अब तक बिहार में कई कंपनियां उद्योगों की स्थापना कर चुकी है, जबकि कई मल्टीनेशनल कंपनियां भी राज्य में निवेश की इच्छा जता रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published.