KCTyagi

नई दिल्लीः कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच गतिरोध खत्म होता नहीं दिख रहा है. इस बीच एनडीए में भाजपा की साथी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने मोदी सरकार को किसानों के प्रति नरम रवैया रखने की सलाह दी है.

जेडीयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता सह महासचिव केसी त्यागी ने इकोनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा, “जदयू ने संसद के दोनों सदनों में कृषि कानूनों का समर्थन किया है. हालांकि, किसान कानून के पास होने के बाद से कुछ चिंताएं जता रहे हैं और सरकार उनसे बात कर कानूनों को सस्पेंड करने की बात तक कह चुकी है. लेकिन फिर भी किसान आंदोलन में लगे हैं. इसलिए जदयू का मत है कि सरकार को किसानों को बातचीत से जोड़कर नरम रवैया बरकरार रखना चाहिए, न कि अक्खड़पन दिखाना चाहिए.”

किसानों ने एनडीए को दिया है वोट

जेडीयू नेता केसी त्यागी ने आगे कहा, “उत्तर भारत में तो खासतौर पर किसानों ने भाजपा और एनडीए को वोट दिया है. उनके साथ दोस्त की तरह बर्ताव होना चाहिए, न कि दुश्मन की तरह.”  बता दें कि जेडीयू बीजेपी की पुराने सहयोगियों में से एक है.

कई पार्टी छोड़ चुके हैं मोदी का साथ

2019 में एनडीए गठबंधन से शिवसेना, शिरोमणि अकाली दल और आरएलपी ने साथ छोड़ दिया था. बावजूद इसके नीतीश की पार्टी ने गठबंधन में रहते हुए लोकसभा और विधानसभा का चुनाव लड़ा और बिहार में सरकार बनाने में सफल रहे. गौरतलब हा कि जदयू की राष्ट्रीय समिति ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर बैठक कर कृषि कानूनों के मुद्दे पर केंद्र को समर्थन देने की बात तो कही थी. लेकिन अब जदयू प्रवक्ता ने बीजेपी को अपने रवैये में बदलाव करने की सलाह दे रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here