बिहार में शराबबंदी लागू है लेकिन सत्तारुढ़ दल के नेता ही इसमें पलीता लगा रहे हैं. मामला झारखंड का इसके तार बिहार से जुड़े हैं. शनिवार को पलामू पुलिस ने स्प्रिट की तस्करी मामले में बिहार JDU के प्रदेश महासचिव विजय सिंह पटेल को गिरफ्तार किया है. छापेमारी के समय विजय सिंह पटेल भागने में सफल रहा था, लेकिन पुलिस ने हिरासत में लिए गए 4 तस्करों से पूछताछ के आधार पर नगर निगम इलाके से विजय सिंह पटेल को गिरफ्तार किया है.

पुलिस की गिरफ्त में आया विजय सिंह पटेल मुजफ्फरपुर का रहने वाला है. उस पर भोजपुर जिला समेत कुछ और जिलों में शराब तस्करी के मामले दर्ज हैं. आज भोजपुर पुलिस उसको पुराने मामले में ले जाने के लिए पलामू जा रही है. शराब तस्करी में जेडीयू प्रदेश महासचिव की गिरफ्तारी पर सियासत तेज हो गई है. इस मामले में नेताओं ने स्पष्ट रूप से कह दिया कि वो इस नाम के व्यक्ति को जानते ही नहीं है. वहीं, एक नेता ने कहा कि कोई भी हो यदि गलत करेगा, उसे पुलिस सजा देगी.

जेडीयू पर आरजेडी हुई हमलावर

वहीं, आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी का कहना है कि जेडीयू के लोगों की कथनी और करनी में अंतर होता है, शराबबंदी-शराबबंदी सिर्फ चिल्लाते हैं. लेकिन, ये ही इसकी तस्करी करते हैं। इनके दिखाने और खाने के दांत अलग-अलग हैं. ये लोग ही बिहार में शराबबंदी के कानून को तोड़ रहे हैं, जिसका उदाहरण है पलामू से JDU के प्रदेश महासचिव का गिरफ्तार होना. विपक्ष का कहना है कि यह पहला मौका नहीं है. मुजफ्फरपुर में ही मंत्री रामसूरत राय के स्कूल कैम्पस से शराब की बोतल मिलने के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस मुद्दे को सड़क से सदन तक उछाल दिया था.

ये भी पढ़ेः बाहुबली शहाबुद्दीन का खास रहा कुख्यात बाबर मियां का दिन दहाड़े मर्डर, मची सनसनी

पुलिस के मुताबिक जेडीयू नेता स्पिरिट तस्करों के साथ मिलकर पलामू सदर प्रखंड के सिंगरा को अपना ठिकाना बना रखा था. बुद्धा ITI स्प्रिट का स्टॉकिंग प्वांइट था जहां से स्पिरिट बिहार भेजा जाता था. स्प्रिट की बिहार में दोगुनी कीमत मिलती थी, जिससे बिहार के शराब माफिया अवैध रूप से शराब बनाकर बेचते थे. छापेमारी में पुलिस ने 20 लाख रुपए की 10 हजार लीटर स्प्रिट, 9 लाख 30 हजार रुपए नगद, 12 स्मार्टफोन और एक फॉरच्युनर SUV के साथ 4 तस्करों को हिरासत में लिया है. शराब माफिया विजय सिंह पटेल ने शराब के धंधे से मुजफ्फरपुर में कई जगहों पर संपत्ति अर्जित की. शराब तस्करी में में उसके रिश्तेदार भी सहयोग करते थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here