पटनाः बिहार में नए समीकरण बनते दिख रहे हैं. महागठबंधन में फूट होने का फायदा नीतीश कुमार हार हाल में उठाना चाहते हैं. पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के महागठबंधन से हटने के बाद जेडीयू में शामिल होते ही सीएम नीतीश कुमार मेहरबान हैं. उन्होंने  मांझी को बड़ा तोहफा देते हुए जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की है. बिहार सरकार के गृह विभाग ने नया आदेश जारी करते हुए मांझी को ‘Z+’ (जेड प्लस) सुरक्षा दिया है.

जेड प्लस सुरक्षा श्रेणी में जीतन राम मांझी के साथ सिर्फ आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव और पूर्व सीएम राबड़ी देवी ही शामिल हैं. राज्य सुरक्षा समिति की 21 सितम्बर को हुई बैठक में की गई अनुशंसा के बाद गृह विभाग ने आदेश जारी कर दिया है. नयी सूची के मुताबिक ‘Z’ श्रेणी की सुरक्षा में सुशील मोदी, ललन सिंह, सैयद शाहनवाज हुसैन, रामविलास पासवान, वशिष्ट नारायण सिंह, अशोक चौधरी और शत्रुघ्न सिन्हा शामिल हैं. वहीं पूर्व लोक सभाध्यक्ष मीरा कुमार और नेता विरोधी दल तेजस्वी प्रसाद यादव वाई प्लस के सुरक्षा घेरे में रहेंगे. वाई प्लस का सुरक्षा घेरा इन्हीं दो नेताओं को दिया गया है.

ये भी पढ़ेंः चुनाव का नीतीश ने किया वेलकम, चिराग-रामविलास पासवान पर दिया बड़ा बयान

रामविलास पासवान से ज्यादा मांझी को सुरक्षा 

बता दें कि नीतीश सरकार ने केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान से ज्यादा तरजीह बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी को दी है. गृह विभाग की हुई बैठक में बिहार सरकार के गृह विभाग ने निर्देश जारी करते हुए साफ किया है कि रामविलास पासवान को सिर्फ जेड श्रेणी जबकि जीतन राम मांझी को जेड प्लस सुरक्षा दिया जाएगा.

नीतीश चिराग पासवान हमलावर 

दूसरी तरफ एनडीए में घमासान जारी है. चिराग पासवान लगातार नीतीश कुमार पर सवाल खड़े करने का कोई मौका नही छोड़ रहे. नीतीश कुमार प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए चिराग के सवालों को टाल दिया. नीतीश ने कहा रामबिलास पासवान से अच्छे संबंध रहे है पर दूसरा कोई क्या बोलता है इससे कोई मतलब नही.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *