जहानाबादः जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें मित्रता के नाम पर कलंक है. दोस्ती की बीबी के साथ अवैध संबंध और भाई के के कारोबार पर कब्जा जमाने के लिए हत्या करवा दी गई. हालांकि पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए शूटर को भी गिरफ्तार किया है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

सीआरपीएफ जवान सह कैंटीन संचालक की हत्याकांड का जहानाबाद पुलिस ने उद्भेदन कर दिया है. हत्या को जवान के दोस्त और ममेरे भाई ने शूटर की मदद से अंजाम दिलाया था. मृतक के दोस्त का उसकी पत्नी से अवैध संबंध था, जबकि भाई को कैंटीन हड़पने की लालच थी. वहीं, हत्याकांड में शामिल तीन शूटर के अलावा हत्या की सुपारी देने वाले सीआरपीएफ जवान को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

मृतक का भाई हड़पना चाहता था कैंटिन

एसपी मीनू कुमारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि मृतक पूर्व सीआरपीएफ जवान जितेंद्र कुमार का दोस्त दयानंद पासवान मृतक की पत्नी से प्यार करता था. वहीं, मृतक का ममेरा भाई लवकुश उसकी कैंटीन को हड़पना चाहता था. हत्याकांड में इस्तेमाल हुए देशी कट्टा को भी बरामद कर लिया गया है.

ये भी पढ़ेंः जबरदस्ती करने घर में घुसा तो महिला ने गड़ासे से काट डाला प्राइवेट पार्ट, दी दर्दनाक मौत

दो शूटर को दी गई सुपारी

नालंदा जिले के नूरसराय निवासी धनंजय नट और बख्तियारपुर के संतोष नट को पांच लाख रुपये की सुपारी देकर हत्या को अंजाम दिया गया था. सुपारी के तौर पर लवकुश ने दो लाख और दयानंद पासवान ने एक लाख रुपये की सुपारी दी थी जबकि सुपारी के दो लाख रुपये बाकी थे.

ये भी पढ़ेंः बीएसएफ जवान की शव यात्रा में उमड़ा जन सैलाव, पिता के मुखाग्नि देते देख रो पड़े लोग

फुटेज के आधार पर हुई जांच

एसपी मीनू कुमारी ने बताया कि 23 दिसम्बर को कडौना ओपी के लोदीपुर गांव समीप पूर्व सीआरपीएफ जवान की हत्या उनकी कैंटीन में की गई थी. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस टीम ने वैज्ञानिक आधार पर जांच करते हुए पूरे मामले का खुलासा किया है. हत्याकांड में शामिल एक शूटर फरार है जिसकी तलाश के लिए छापेमारी की जा रही है.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here