आप जानते हैं पटना के फेमस ‘खान सर’ का असली नाम क्या है? खुद दिया जवाब

0
13

पटनाः बिहार के फेमस टीचर ‘खान सर’इन दिनों विवादों में हैं. विवाद 24 अप्रैल के एक वीडियो से हुआ है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को देश से वापस भेजने के लिए हो रहे विरोध प्रदर्शन की मिस्ट्री समझाई. वीडियो में एक बच्चे की तस्वीर को पॉइंट करते हुए टिप्प्णी की, जिसे लेकर विवाद शुरू हो गया है. अब सोशल मीडिया पर खान सर के खिलाफ मुहिम चलायी जा रही है. बहस उनके असली नाम को लेकर शुरू हो गई है.

खान सर की पहचान GS के टॉपिक को देसी तरीके से आसान बनाकर पढ़ाने वाले टीचर के रुप में है. इनके यूट्यूब पर वीडियोज बनाकर डालते हैं. उनके यू ट्यूब चैनल (Khan GS Research Centre) पर 92 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं. अब अपने इन्हीं वीडियोज की वजह से खान सर विवादों में घिर गए हैं. सोशल मीडिया पर खान सर के विवादित वीडियो क्लिप्स वायरल हो रहे हैं. 24 अप्रैल को फ्रांस-पाकिस्तान के संबंधों पर डाले गए वीडियो में वे एक जगह बताते हैं कि पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को देश से वापस भेजने के लिए विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं और इन विरोध प्रदर्शनों में बच्चे भी हिस्सा ले रहे हैं.

पाकिस्तान के वीडियो पर किया था टिप्पणी

वीडियो में बच्चे की तस्वीर को पॉइंट करते हुए खान सर बोलते हैं कि “ई रैली में ये बेचारा बचवा है. इसको क्या पता कि राजदूत क्या चीज होता है. कोई पता नहीं है. लेकिन फ्रांस को राजदूत को बाहर ले जाएंगे. इनको कुछ पता नहीं है. बाबू लोग, तुम लोग पढ़ लो. अब्बा के कहने पर मत आओ. अब्बा तो पंचर साट ही रहे हैं (माने बना ही रहे हैं). ऐसा ही तुम लोग भी करेगा तो बड़ा होकर तुम लोग भी पंचर साटेगा. तो पंचर मत साटो वरना तुमको तो पता ही है कि कुछ नहीं होगा तो चौराहा पर बैठकर मीट काटेगा तुम. बकलोल कहीं के. बताइए, ये उमर है बच्चों को यहां पर लाने का?”

समय पर बतायेंगे अपना वास्तविक नाम

वहीं, अब खान सर के असली नाम को लेकर बहस शुरू हो गई है. विवाद और खान सर व अमित सिंह की पहचान को लेकर द लल्लनटॉप बात की. उन्होंने बताया कि “नाम से किसी को नहीं जानना चाहिए. बस इतना समझना चाहिए कि मेरा नाम क्या है, वो अलग बात है. और लोग हमें क्या कहकर बुलाते हैं, वो अलग है. नेल्सन मंडेला को अफ्रीका का गांधी कहा जाता है, लेकिन इस आधार पर आप यह नहीं कह सकते कि वो गांधी हैं. मुझे क्या कहा जाता है, इसके ऊपर मैं बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देता. कुछ लोग मुझे कई नामों से बुलाते हैं. जिसमें से एक अमित भी है. खान सर बस एक टाइटल है. मेरा मूल नाम नहीं है. मैंने अपना पूरा नाम कभी नहीं बताया. टाइम आएगा तो सबको पता चल ही जाएगा. नाम में कोई बहुत बड़ा रहस्य नहीं छुपा है, लेकिन एक ट्रेंड है तो उसे चलने दिया जाए.”

वायरल वीडियो पर दी सफाई

पंचर बनाने और एक समुदाय विशेष के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के आरोपों पर खान सर ने अपना पक्ष रखा. उन्होंने कहा कि “अप्रैल का वीडियो है. उस वीडियो से अगर कोई समस्या होती तो ये विवाद अप्रैल में शुरू होता. वो फ्रांस का विवाद था. वहां के लोगों को मैंने बस इतना बोला था कि आपस में मिलजुलकर रहना चाहिए. अगर विवाद पर फ्रांस के राजदूत को निकालेंगे तो कल को कोई और देश बोलगा, तो आप कितने देशों के राजदूत को निकालते चले जाएंगे. उसमें कुछ प्रोटेस्ट की फोटो भी थीं, जिनमें छोटे बच्चे भी थे. मैंने बस जोर देकर ये कहा था कि बच्चों को स्कूल जाना चाहिए. उन्हें तो राजदूत का मतलब भी नहीं पता. ये सब पाकिस्तान के बारे में कहा था. पाकिस्तान के बारे में बोलने का मतलब यह नहीं है कि किसी धर्म के बारे में बोल रहे हैं. अगर कोई कहता है कि हिंदुस्तान के लोगों की शिक्षा को और बेहतर करना है, तो इसका मतलब यह नहीं कि वो किसी धर्म के बारे में बोल रहा है. अब कोई जबरदस्ती धर्म को बीच में ले आए तो हम क्या कर सकते हैं.”

ये भी पढ़ेंः बिहार में किसान के घर गाय ने दिया दो मुंह वाले बच्चे को जन्म, देवरूप मान कर पूजा कर रहे लोग

खान सर ने आगे कहा कि उन्होंने बस उन बच्चों के लिए कहा था कि पढ़ाई लिखाई कर लो. नहीं पढ़ोगे तो कोई अच्छा काम नहीं कर पाओगे. इसी पर पंचर बनाने का उदाहरण दे दिया था. अब कोई पढ़ा-लिखा होगा तो भूखे तो मरेगा नहीं. इसमें यह कह देना कि इस्लाम धर्म को निशाना बनाया, सही नहीं है. खान सर ने बताया कि उन्होंने कभी भी हिंदू धर्म और इस्लाम धर्म को निशाना नहीं बनाया. खान सर ने यह भी कहा कि जिन लोगों को उस वीडियो से समस्या है, उनसे कहिए कि उस क्लिप के 10 मिनट पहले का हिस्सा और 10 मिनट बाद का हिस्सा भी चलाएं. क्योंकि आधा सच पूरे झूठ से ज्यादा खतरनाक होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here