पटनाः बिहार की राजनीति में होली से पहले धमाका होने जा रहा है. कभी साथ रह चुके नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा फिर से एक साथ राजनीति करते हुए नजर आ सकते हैं. दोनों नेताओं को एक साथ लाने के लिए जेडीयू सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह लगातार प्रयासरत हैं.

आज रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा और वशिष्ठ नारायण सिंह की मुलाकात IGIMS में हुई जहां, दोनों नेताओं ने कोरोना से बचाव का टिका लिया. दोनों नेता एक साथ IGIMS पहुंचे थे. वैक्सीन लेने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने फोन कर वशिष्ठ नारायण सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा को बधाई दी.

रालोसपा का जदयू में हो सकता है विलय

दोनों नेताओं के वैक्सीन लेने एक साथ आने के साथ ही 14 मार्च को रालोसपा के जदयू में विलय की खबरें भी सामने आ रही है. इस दौरान उपेन्द्र कुशवाहा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि एक साथ आने पर सियासत नहीं समझे उनका और दादा का काफ़ी पुराना सम्बंध है. वहीं, JDU के साथ जाने की बात पर कुशवाहा ने कहा, हम अलग कब थे कि साथ जाने की बात हो रही है.

नीतीश के साथ जायेंगे उपेंद्र कुशवाहा

वहीं, वशिष्ठ नारायण सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कुशवाहा जी नीतीश कुमार के पुराने सहयोगी रहे है, बहुत जल्द साथ आ जाएँगे. ये भी माना जाए की आज से ही कुशवाहा हमारे साथ आ गए हैं. सूत्रों के हवाले से खबर यह भी आ रही है कि बहुत जल्द कुशवाहा और नीतीश कुमार एक साथ आ जाएँगे. बता दें कि नीतीश कुमार से कुशवाहा ने वशिष्ठ नारायण सिंह के साथ दो दिन पहले भी मुलाकात की थी.

विशाल भारद्वाज की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here