RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को 2009 विधानसभा चुनाव के दौरान आचार संहिता उल्लंघन मामले में बरी कर दिया गया है। हालांकि, कोर्ट ने उन पर 6 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। बुधवार को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री इस मामले के संबंध में पलामू में विशेष MP, MLA अदालत में पेश हुए थे।

बता दें कि झारखंड विधानसभा चुनाव-2009 के दौरान गढ़वा विधानसभा क्षेत्र से आरजेडी उम्मीदवार गिरिनाथ सिंह के प्रचार में लालू प्रसाद यादव हेलिकॉप्टर से से पहुंचे थे। गढ़वा के गोविंद उच्च विद्यालय में लालू की सभा होनी थी। हेलिकॉप्टर को लैंड करने के लिए गढ़वा प्रखंड के कल्याणपुर में हेलीपैड निर्धारित था।इसके लिए प्रशासन ने अनुमति दी थी, लेकिन हेलीकॉप्टर निर्धारित हेलीपैड पर लैंड कराने की बजाय गोविंद उच्च विद्यालय के मैदान में बने सभा स्थल पर उतारा गया। इससे अफरातफरी मच गई।

लालू प्रसाद यादव

दलील सुनने के बाद कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव को बरी कर दिया

चुनाव आयोग ने लालू यादव के इस कदम को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना था और FIR दर्ज करने का आदेश दिया था। इसके बाद जमकर राजनीति भी हुई थी। लालू पक्ष के लोगों का कहना था कि हेलिकॉप्टर रास्ता भटक गया था, जबकि विपक्ष का कहना था कि लालू ने ये सब भीड़ जुटाने के लिए किया था। हालांकि, इस मामले में दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव को बरी कर दिया है। उन पर कोर्ट 6 हजार रुपये जुर्माना लगाया है।

लालू प्रसाद यादव के वकील धीरेंद्र सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि कोर्ट ने सभी बातों को सुना और सभी याचिका को देखते हुए 6,000 का फाइन लगाया। कोर्ट ने लालू यादव को मुक्त कर मामले को निष्पादित कर दिया है। अब उन्हें दोबारा यहां आने की जरुरत नहीं है।

लालू यादव सोमवार को ही पलामू पहुंच गए थे। मंगलवार को उन्होंने स्थानीय पार्टी नेताओं से मुलाकात कर फीडबैक लिया। वे पलामू के सर्किट हाउस में रुके हुए थे। बुधवार को वे फिर से पटना लौट जाएंगे।

2009 के विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव आरजेडी के प्रत्याशी गिरिनाथ सिंह के प्रचार में हेलिकॉप्टर से गढ़वा पहुंचे थे। उनकी स्कूल के मैदान में सभा होनी थी। हेलिकॉप्टर को लैंड कराने के लिए अलग से हेलिपैड बनाया गया था। मगर पायलट ने हेलिकॉप्टर को हेलिपैड के बजाय सभा स्थल पर लैंड करा दिया। इससे सभा स्थल पर अफरातफरी मच गई।

Leave a comment

Your email address will not be published.