नई दिल्लीः इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण दोपहर 1 बजकर 4 मिनट पर यह ग्रहण शुरू हो गया. यह ग्रहण अब शाम 5 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा. कास बात यह है कि चंद्र ग्रहण कोरोना काल के साल  2020 के चार चंद्रग्रहणों में से अंतिम चंद्रग्रहण है.  इस बार चंद्र ग्रहण एक उपछाया चंद्र ग्रहण है जिसे पेनुम्ब्रा कहते हैं.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

यहीं कारण है कि इस ग्रहण का सूतक काल नहीं होगा. इसका कोई धार्मिक शास्त्रीय महत्व नहीं है. इसी कारण कोई मंदिर आदि बंद नहीं किए गए हैं. चंद्र ग्रहण एशिया के कुछ देशों के अलावा अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर के कुछ हिस्सों में भी देखाई दिया.

ये भी पढ़ेंः बाबा आमटे की पोती शीतल आमटे ने की सुसाइ’ड, दर्दनाक तरीके से खुद की ली जान

बता दें कि चंद्र ग्रहण कुल तीन तरह के होते हैं. पूर्ण चंद्र ग्रहण, आंशिक चंद्र ग्रहण और उपछाया चंद्र ग्रहण. इस बार उपछाया चंद्र ग्रहण है. ग्रहण को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए. ग्रहण के समय भोजन करने और बनाने से भी बचना चाहिए. ग्रहण के बाद स्नान करने को भी अच्छा बताया गया है, इससे ग्रहण का प्रभाव कम हो जाता है.

Get Daily City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here