ट्रेन टिकट बुक करने के नियमों में IRCTC ने बदलाव किया है। नए नियम के मुताबिक एक महीने में आप पहले से अधिक टिकट बुक कर सकेंगे। अगर आप ट्रेन से सफर करते हैं तो टिकट बुकिंग IRCTC के मोबाइल ऐप और इसकी वेबसाइट पर जाकर की जाती है। यह प्रक्रिया बहुत आसान है और घर बैठे किसी भी वक्त टिकट बुकिंग की सुविधा उपलब्ध है।

जानकारी के लिए बता दें कि अगर आपका आईआरसीटीसी अकाउंट आधार से लिंक नहीं है तो एक महीने के भीतर केवल छह टिकट बुक कर सकते हैं। वहीं, आधार लिंक होने पर एक महीने में अधिकतम 12 टिकट की बुकिंग की जा सकती है। आधार वेरिफिकेशन के साथ-साथ एक पैसेंजर का भी आधार वेरिफिकेशन जरूरी है। उसके बाद ही 12 टिकट बुकिंग की सुविधा मिलती है। आइए जानते हैं कि आईआरसीटीसी अकाउंट को किस तरह आधार से लिंक करें।

इसके लिए अपने IRCTC अकाउंट को लॉगिन करें। इसके लिए इसकी आधिकारिक वेबसाइट www.irctc.co.in पर जाएं। यूजर आईडी और पासवर्ड की मदद से अकाउंट लॉगिन करें, फिर माय प्रोफाइल वाले विकल्प पर जाएं और आधार केवाईसी पर क्लिक करें। यहां आपको अपना आधार नंबर डालना है, जिसके बाद रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP भेजा जाएगा। ओटीपी वेरिफिकेशन के बाद आधार वेरिफिकेशन पूरा हो जाता है।

IRCTC

IRCTC : आधार वेरिफिकेशन के बाद उस पैसेंजर का नाम मास्टर लिस्ट में जुड़ जाएगा

आधार वेरिफाई होने के साथ ही नीचे के पेज पर केवाईसी डिटेल की पूरी जानकारी उपलब्ध होगी। पहले सारी जानकारी ध्यान से चेक करें फिर उसे सबमिट कर दें। पैसेंजर आधार वेरिफिकेशन की बात करें तो माय प्रोफाइल पर जाकर मास्टर लिस्ट पर क्लिक करें। यहा पैसेंजर की पूरी जानकारी डालें और प्रोसेस में आगे बढ़ें। आधार वेरिफिकेशन के बाद उस पैसेंजर का नाम मास्टर लिस्ट में जुड़ जाएगा।

रेलवे की तत्काल टिकट की बुकिंग AC कोच के लिए सुबह 10 बजे से शुरू हो जाती है। वहीं, स्लीपर यानी नॉन AC कोच के लिए बुकिंग 11 बजे से शुरू होती है। तत्काल टिकट सेवा यात्रा से एक दिन पहले शुरू होती है। इस पूरे प्रोसेस के दौरान समय की बचत करने के लिए यात्रियों की लिस्ट पहले तैयार कर लेनी चाहिए। मास्टरलिस्ट की मदद से आप उन सभी यात्रियों की डिटेल पहले से ही सेव कर सकते हैं, जिनके लिए टिकट बुक करनी है। IRCTC की वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर यह सुविधा मिलती है। IRCTC अकाउंट के माय प्रोफाइल सेक्शन में यह सुविधा उपलब्ध है। ऐसा करने से टिकट बुकिंग करते समय आपके समय की बचत होगी और महज एक क्लिक में यात्रियों की डिटेल मिल जाएगी।

इमरजेंसी के लिए तत्काल के अलावा प्रीमियम तत्काल टिकट बुकिंग का भी विकल्प दिया गया है। प्रीमियम तत्काल भी रेग्युलर तत्काल टिकट स्कीम की तरह ही है। दोनों में अंतर सिर्फ यही होता है कि प्रीमियम तत्काल में डायनेमिक किराया होता है, यानी कि ट्रेन में जैसे-जैसे सीट भरती जाती है, वैसे-वैसे खाली सीट के दाम बढ़ते जाते हैं। अगर सीटें खाली रहीं तो किराया रेग्युलर तत्काल जितना ही लगता है। जैसे फ्लाइट में डिमांड के आधार पर किराया का सिस्टम होता है, वैसा ही प्रीमिमय तत्काल में भी होता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.