पुणेः देश भर में कोरोना संक्रमण फिर से रफ्तारल पकड़ रहा है. लोग लगातार कोरोना से संक्रमत हो रहे हैं. वहीं, महाराष्ट्र में बेकाबू होते कोविड-19 के बीच जहां राज्य सरकार ने ने 28 मार्च से नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया तो वहीं दूसरी तरफ डिप्टी सीएम अजीत पवार लॉकडाउन की चेतावनी दे डाली है.

अजित पवार ने लोगों से सावधनी बरतने को कहा है. उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार ने पुणे में कहा की अगर लोगों ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया तो 2 अप्रैल से लॉकडाउन जैसा कड़ा फैसला सरकार ले सकती है. लोग अभी भी संभल जाएं और सावधानी बरतें. राजनीतिक दलों से भी अनुरोध करते हुए अजीत पवार ने कहा है कि अपने सभी राजनीतिक और सार्वजनिक कार्यक्रम आने वाले कुछ दिनों के लिए रद्द करें.

मुंबई में 28 मार्च से नाइट कर्फ्यू

अजीत पवार ने आगे कहा कि प्राइवेट अस्पतालों के 50 फ़ीसदी बेड्स कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते सरकार अपने पास लेगी. दूसरी तरफ मुंबई की मेयर किशोरी पेडनकर ने कहा- जहां पर पांच या उससे ज्यादा कोरोना के केस है उसे बीएमसी सील कर देगी. हम झुग्गी-झपड़ी के मुकाबले ऊंची इमारतों में ज्यादा कोरोना के रेट देख रहे हैं. नाइट कर्फ्यू के दौरान होटल्स और पब बंद रहेंगे. सिर्फ आवश्यक सेवाओं की इजाजत रहेगी. मुंबई में नाइट कर्फ्यू 28 मार्च की रात 10 या 11 बजे से शुरू हो सकता है.

मजबूरन एक्शन ले रही सरकार

वहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा, “हम दोबारा लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं थे लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए हमें ये एक्शन लेने पड़ा है. मैं राज्य के लोगों से अपील करता हूं कि वह जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें.” सीएम ने आगे कहा, “हम हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी तेजी से काम कर रहे हैं. सभी जिलों के अधिकारियों को हेल्थ सुविधाएं जारी रखने के निर्देश दिए हैं.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here