हैदराबाद: आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में स्थित कोशी बग्गा नाम के गाँव में 2 दिन तक एक लावारिस शव खेत में पड़ा रहा.स्थानीय निवासी उसे उठाने से कतरा रहे थे.जैसे ही इसकी खबर स्थानीय पुलिस स्टेशन में तैनात महिला SI के.सिरीशा को मिली तो वे तुरंत मौके पर पहुंची.

सिरीशा ने गांव वालों से मदद मांगी, लेकिन कोई तैयार नहीं हुआ. इसके बाद उन्होंने शव को कंधा देने के लिए एक आदमी बुलाया. कोई और नहीं मिला तो उन्होंने खुद ही यह जिम्मेदारी ले ली. दोनों 2 किलोमीटर पैदल चलकर डेड बॉडी को श्मशान घाट तक ले गए.वहाँ उसका अंतिम संस्कार भी सिरीशा ने खुद ही किया.

SI ने किया अंतिम संस्कार

बता दें कि आंध्र प्रदेश पुलिस ने अपने सोशल मीडिया पेज पर सिरीशा का वीडियो शेयर किया है. इसमें वह खेतों की मेड़ पर चलकर डेड बॉडी को श्मशान घाट तक ले जाते दिख रही हैं. सिरीशा ने बताया कि यह डेड बॉडी 80 साल के एक भिखारी की थी. गांव का रास्ता कच्चा था. इसलिए वहां तक वाहन नहीं जा सकता था. मैंने गांव वालों से मदद मांगी. कोई इसके लिए तैयार नहीं हुआ तो मैं खुद ही ललिता ट्रस्ट के एक सदस्य की मदद से डेड बॉडी को श्मशान घाट तक ले गई और अंतिम संस्कार भी किया.

DGP ने की तारीफ 

सिरीशा ने बताया कि मैंने लोगों की सेवा करने के लिए यह नौकरी चुनी है. शव को श्मशान घाट तक पहुंचाकर मैंने अपना फर्ज निभाया है. बता दें कि उनके पिता का सपना था कि वह पुलिस फोर्स जॉइन करें.वीडियो सामने आने के बाद सोशल मीडिया यूजर उनकी खूब तारीफ कर रहे हैं. एक यूजर ने कहा कि बहादुरी इसे ही कहा जाता है. DGP गौतम स्वांग ने भी सिरीशा की तारीफ की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here