नालंदाः भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली द्वारा 25 से 27 फरवरी को आयोजित पुसा कृषि विज्ञान मेला में केंद्रीय कृषि एवं किसान विकास राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने चंडी प्रखंड के अनंतपुर गांव निवासी अनिता कुमारी को नवोन्मेषी कृषक पुरस्कार से सम्मानित किया है.

अनीता को यह पुरस्कार कृषि एवं संबद्ध उद्यम के रूप में नवीनतम प्रौद्योगिकी अपना कर उत्पादन प्राप्त करने, कृषि को लाभदायक व्यवसाय बनाने, अपने ज्ञान व अनुभव को साझा कर अपने क्षेत्र के महिलाओं को जागृत करते हुए मशरूम उत्पादन के लिए बढ़ावा देने तथा शहद उत्पादन एवं बिक्री के लिए दिया गया है.

मशरूम लेडी के नाम से मशहुर हैं अनिता

बता दें कि अनिता कुमारी गृह विज्ञान से शिक्षित होकर अनिता डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय बिहार एवं गोविंद पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उत्तराखंड से मशरूम उत्पादन में प्रशिक्षण प्राप्त की हैं. इसके बाद अनीता जैविक आयस्टर एवं मिल्की व्हाइट मशरूम उत्पादन कर मुनाफा कमा रही हैं. इनके अथक प्रयास के कारण लोगों ने इनका नामकरण मशरूम लेडी के नाम से भी कर डाला. 2012 में अनंतपुर में राजकीय कृषि विभाग द्वारा गांव को मशरूम गांव से नामांकित किया गया.

250 महिलाओं को बना रही हैं आत्मनिर्भर

अनीता ने कुछ वर्ष पूर्व माधोपुर फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी प्रारंभ की तथा वर्तमान समय में 250 से अधिक महिला किसानों को मशरूम उत्पादन के लिए प्रेरित कर आर्थिक रुप से सक्षम बना रही हैं. अनीता कुमार पूर्व में भी कई पुरस्कार पा चुकी हैं. 2012 में नवाचार कृषक पुरस्कार, 2014 में जगजीवन राम अभिनव पुरस्कार तथा 2018 में उद्यान रत्न से सम्मानित किया गया है.

ये भी पढ़ेंः नालंदा में दिव्यांगों के बीच सहायक उपकरणों का सांसद ने किया निशुल्क वितरण

पुरस्कार पाने के बाद मशरूम लेडी अनीता ने सम्मानित होने पर गर्व महसूस करते हुए कहा कि हमारे कार्यों में पति समेत परिवार का सभी सदस्य का भरपूर सहयोग मिला है. यहीं कारण है कि इस मुकाम को मुकाम हासिल कर सकी हैं. उन्होंने बताया कि नालंदा उद्यान महाविद्यालय से प्रशिक्षण लेकर कृषि क्षेत्र में आगे कदम बढ़ाया तथा कृषि को रोजगार के रूप में विकसित करने का काम किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here