जमुई: कोरोना काल में भी इस साल मैट्रिक का रिजल्ट सबसे बिहार में ही जारी किया गया है. हालांकि, इस साल पिछले साल की तुलना में रिजल्ट में गिरावट आई है. वहीं जमुई में एक किशोर ने मैट्रिक परीक्षा में फेल होने पर फांसी लगाकर अपनी जान दे दी.

किशोर 5 अप्रैल को मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद से ही तनाव में था और उसने जान दे दी. घटना की के बारे में जानकारी तब मिली जब देर शाम मृतक का छोटा भाई ट्यूशन पढ़कर घर पहुंचा. कमरा अंदर से बंद था जिसे देख पिता को जानकारी दी. कमरे का दरवाजा तोड़ते ही नजारा देख कर परिजन सन्न रह गए. किशोर की लाश कमरे में फंदे से लटक रही थी. मृतक सरैया गांव निवासी राजेश यादव के पुत्र विपिन कुमार (17 वर्ष) है.

बिहार बोर्ड
बिहार बोर्ड

दूसरे घर में रहता था किशोर

दरअसल, मृतक किशोर विपिन अपने छोटे भाई के साथ चितोचक गांव में ही स्थित दूसरे मकान में रहकर पढ़ाई करता था. स्थानीय स्कूल BL शर्मा हाईस्कूल में पढ़ता था. पिता का कहना है कि घटना के वक्त विपिन अकेला था. ट्यूशन से लौटने के बाद छोटे भाई ने भाई का कमरा काफी देर से बंद देखा तो उन्हें फोन कर इस बात की जानकारी दी.

ये भी पढ़ेंः महिला सिपाही ने थाने में ही कर ली खुदकुशी, पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

फोन के बाद आनन-फानन में पिता दूसरे मकान में पहुंचे. बंद कमरे के दरवाजे को तोड़कर अंदर घुसते ही होश उड़ गए. विपिन को फांसी के फंदे पर लटका हुआ पाया. इस घटना से घर में कोहराम मच गया. परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here