सोशल मीडिया पर पुलिस का साया! कुछ भी लिखने पहले दस बार सोच लें, नहीं तो होगी कार्रवाई

0
8

पटनाः बिहार में सोशल मीडिया पर नकेल कसने के पत्र से बवाल मचा हुआ है. इस पत्र को जारी करने वाले नैय्यर हसनैन खान आर्थिक अपराध इकाई के आर्थिक अपराध शाखा के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि ये कोई नई बात नहीं है बल्कि ये पहले से एक्ट में दिया हुआ है जिसे लागू करने के लिए सभी विभागों के सचिव और प्रधान सचिव से अनुरोध की है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

नैयर हसनैन खान ने बताया कि अगर उनके पास कोई इस तरह की जानकारी है या इससे एफेक्टेड है तो विभाग को उसकी जानकारी दी जाए. उसके लिए आर्थिक अपराध इकाई है. वहीं, सोशल मीडिया का मिसयूज साइबर क्राइम के श्रेणी में आता है, चाहे किसी के पर्सनल डिग्निटी के साथ खिलवाड़ हो या अशांति फैलाने के लिए हो. भ्रामक चीज़ो को फैलाने के लिए हो, या बिल्कुल ही तथ्य हीन चीज़ो को उल्लेख करके हो.

अपराध का केस बनने पर होगी कार्रवाई

आईपीएस नैयर हसनैन खान ने बताया कि विभाग की तरफ से सिर्फ अनुरोध किया गया है कि इस तरह मामले को संज्ञान में लाया जाए उसे विभाग देखेगा. जांच में यदि अपराध के मामले बनता है तो कानूनी कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने बताया कि जो भी कंटेंट है वो पूरी तरह से लीगल है. ऐसा कोई भी मामला जो आईटी एक्ट और आइपीसी के अंदर होगा उन्हीं मामलो को अपराध श्रेणी में माना जाएगा.

व्यक्तिगत राय देने के लिए स्वतंत्र

हालांकि, नैयर हसन खान ने बताया कि कोई भी व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत राय देने की स्वतंत्रत है अगर वो अपराध में नहीं है. ये केवल ऐसे मामले है जिनमें अपराध कांड दर्ज हो सके, उन्हीं मामलो में कानूनी कार्रवाई का प्रयोजन है. उन्होंने कहा कि जो भी मामले आयेंगे उसकी जांच की जायेगी. अगर अपराध के मामले बनते हैं तो कार्रवाई होगी. हालांकि, आम आदमी की शिकायतें भी आ रही है. मगर लोगो में अभी भी संशय वो इन मामलों को लेकर लोकल थाने में चले जाते हैं, हर जिले में भी हमारी टीम काम कर रही है.

Get Daily News Update in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here