पटना. बिहार विधानसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण की अधिसूचना जारी हो चुकी है, लेकिन महागठबंधन में शामिल कांग्रेस के उम्मीदवारों के नामों की अभी तक घोषणा पूरी नहीं हुई है. इस बीच बिहार की राजनीति में नया सियासी बवाल खड़ा कर दिया. कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन में अनियमितताओं के बाद तीन वरिष्ठ नेताओं को चयन समिति से हटा दिया, जिसमें बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा, सीएलपी नेता सदानंद सिंह और चुनाव अभियान के नेता अखिलेश प्रसाद सिंह हैं. हालांकि कांग्रेस पार्टी ने इन खबरों का खंडन किया है. पार्टी का कहना है कि ये आधारहीन खबरें हैं.

अभिनाश पांडे ने किया ट्वीट 
कांग्रेस पार्टी के बिहार चुनाव प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव अभिनाश पांडे ने खबर का खंडन करते हुए ट्वीट किया. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से ऐसी खबरों का खंडन कर रही है. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक विश्वसनीय और जिम्मेदार संगठन ने इस भ्रामक जानकारी को एआईसीसी के अधिकारियों के साथ सत्यापित किए बिना प्रसारित किया है. उन्होंने आगे कहा कि रेडियो चैनल द्वारा ट्वीट में उल्लेख किए गए नेता कांग्रेस के सम्मानजनक और सक्रिय सदस्य हैं, जो बिहार चुनाव की स्क्रीनिंग की कार्यवाही में गंभीरता से शामिल हैं.

ये भी पढ़ें.तेजप्रताप ने नामांकन पर्चा किया दाखिल, भाई तेजस्वी भी रहे मौजूद

खबर पूरी तरह गलत है
वहीं, बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल ने कहा कि खबर पूरी तरह गलत है. प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और विधायक दल के नेता सदानंद सिंह अभी हैं चयन समिति के सदस्य हैं. बिहार चुनाव में टिकटार्थियों की नाराजगी पर शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि स्क्रीनिंग कमिटी प्रमुख अविनाश पांडे हैं और वो पूरी कोशिश कर रहे हैं कार्यकर्ताओं को टिकट दी जाए.

Get Today’s City News Updates

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *