पटना: बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना अभी भी जारी है और शुरूआती अभी तक आए  रुझानों के अनुसार, महागठबंधन और एनडीए के बीच कड़ा मुकाबला नजर आ रहा है.  हालांकि, महागठबंधन और एनडीए के बीच बहुत ज्यादा सीटों का अंतर नहीं है. भले ही आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है, वहीं बीजेपी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनती दिख रही है.
Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

वहीं, एलजेपी की बात करे तो एनडीए  से अलग होकर अकेले चुनाव में उतरी एलजेपी ने जेडीयू को अच्छा खासा नुकसान पहुचाया है.  आरजेडी ने 144 पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, जिनमें से  अभी 72 उम्मीदवार आगे चल रहे हैं.।आरजेडी का स्ट्राइक रेट करीब 70 फीसदी है.  इसके पहले 2015 के विधानसभा चुनाव में आरजेडी ने 101 सीटों पर चुनाव लड़कर 81 सीटों जीतने में कामयाब रही थी.

वहीं, महागठबंधन की सहयोगी कांग्रेस ने 70 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, उसमें 29 सीटों पर बढ़त मिलती दिख रही है. इस तरह से कांग्रेस का बिहार में स्ट्राइक रेट 50 फीसदी के करीब आने की संभावना है. 2015 के चुनाव के आंकड़े देखें तो कांग्रेस 41 सीटों में से 27 सीटें जीतने में कामयाब रही थी.

महागठबंधन में शामिल वामपंथी दल दोबारा से मजबूत होते नजर आ रहे हैं. बिहार में वामपंथी दलों ने 29 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, जिनमें से वे14 सीटों पर आगे चल रही है. सीपीआई (माले) ने बिहार की 16 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारी थी. इस तरह से सीपीआई (माले) का स्ट्राइक रेट 95 फीसदी से ज्यादा रहने की संभावना है.

बीजेपी स्ट्राइक रेट

बिहार में बीजेपी 110 सीटों पर चुनाव लड़ रही. जिसमे से वे 62 सीटों पर आगे चल रही हैं. इस लिहाज से बीजेपी का स्ट्राइक रेट करीब 55 फीसदी है. 2015 में बीजेपी ने 157 सीटों में से 53 सीटों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि, पिछले चुनाव में बीजेपी और जेडीयू अलग-अलग चुनाव लड़ी थी, जबकि इस बार दोनों एक साथ मैदान में हैं.

नीतीश कुमार की अगुवाई वाली जेडीयू ने बिहार में 115 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे. जिनमें से उसे 37 सीटों पर आगे चल रही है. इस लिहाज से जेडीयू का स्ट्राइक रेट करीब 35 फीसदी है. 2015 में जेडीयू 101 सीटों पर चुनाव लड़कर 71 सीटें जीतने में कामयाब रही थी

वहीं, एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने वाली एलजेपी5 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है,  इसके अलावा जीडीएसएफ को 5 सीटें मिल रही हैं। वहीं, अन्य 5 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है.  वहीं, वीआईपी पार्टी ने 11 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, जिनमें से उसे 5 सीटों पर आगे चल रही हैं. ऐसे ही जीतनराम मांझी की पार्टी HAM ने सात सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, जिनमें से 2 सीटों पर बढ़त मिल रही है.
Get Today’s City News Updates

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *