कोरोना वायरस से लड़ने के लिए केंद्र सरकार ने लॉकडाउन लागू कर रखा है. जिस कारण देश के लोग अलग-अलग राज्यों में फंस गए. लॉकडाउन बढ़ाया गया तो कई राज्यों ने अपने लोगों के अन्य राज्यों से निकालना शुरु कर दिया है. इसी क्रम में अब बिहार सरकार ने अपने लोगों के निकालने के लिए नोडल अधिकारियों को नोमिनेट कर दिया है.


बता दें यह नोडल अधिकारी अन्य राज्यों के नोडल अधिकारियों के साथ मिलकर बिहार के लोगों को वापस लाने की कोशिश करेंगे. बता दें  यह सूची बिहार के आपदा एवं प्रबंधन विभाग ने जारी की है. इस सूची में सभी अधिकारियों के नाम और नंबर जारी किए गए हैं. दरअसल केंद्र सरकार ने बुधवार को एक गाइडलाइन जारी किया है जिसमें राज्य के बाह फंसे छात्रों,प्रवासी मजदूरों और तीर्थयात्रियों को वापस उनके घर भेजे जाने की मंजूरी दी गई है.

Immediately Receive Daily CG News Updates

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव इस पूरे अभियान के राज्य नोडल अधिकारी के रूप में काम करेंगे. परिवहन विभाग के सचिव, स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव अनिल कुमार और विधि व्यवव्स्था के एडीजी कामगारों और छात्रों सहित दूसरे राज्य में फंसे अन्य लोगों को लाने के लिए व्यवस्था करेंगे. यही अधिकारी उनके स्वस्थ्य जांच और स्क्रनिंग की भी व्यवस्था करने में जिला प्रशासन की मदद करेंगे. विभाग ने नोडल अधिकारियों की जो सूची जारी की है. दिल्ली और हिमाचल प्रदेश के लिए पलका सहनी और शैलेंद्र कुमार, जम्मू कश्मीर, लद्दाख के लिए शैलेंद्र कुमार, पंजाब के लिए मानवजीत सिंह ढिल्लो, हरियाणा के लिए दिवेश सेहरा, राजस्थान के लिए प्रेम सिंह मीणा, गुजरात के लिए बी कार्तिकेय, उत्तराखंड के लिए विनोद सिंह गुंजियाल और उत्तर प्रदेश के लिए विनोद सिंह गुंजीयाल व अनिमेश परासर को नोडल अफसर के रूप में नियुक्त किया गया है.

 जबकि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लिए राम चंद्रडूडू, तमिलनाडु और पुडुचेरी के लिए के सेंथिल कुमार, कर्नाटक के लिए प्रतिमा एस वर्मा, महाराष्ट्र और गोवा के लिए आदेश तितरमारे, केरल के लिए सफीना एन, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के लिए मयंक बरवाड़े, उड़ीसा के लिए अनिरुद्ध कुमार, झारखंड के लिए चंद्रशेखर , पश्चिम बंगाल के लिए आईपीएस अफसर किम को नोडल अफसर के रूप में नियुक्त किया गया है. इसके आलावा असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, त्रिपुरा, मिजोरम, अरुणाचल और सिक्किम के लिए आनंद शर्मा को नोडल अधिकारी बनाया गया है.  

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *