जमानत याचिका पर पप्पू यादव को कोर्ट ने फिर दिया झटका, समर्थकों में छायी मायूसी

0
10

32 वर्ष पुराने अपहरण के एक मामले में गिरफ्तार जाप सुप्रीमो सह पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव की जमानत याचिका खारिज हो गई है. जमानत की अर्जी पर मंगलवार को मधेपुरा कोर्ट में सुनवाई हुई. जिला जज ने वर्चुअल सुनवाई करते हुए अपना निर्णय काफी देर तक सुरक्षित रखा. जिला जज ने ढाई बजे अपना निर्णय सुनाते हुए उनकी जमानत याचिका को खारिज कर दिया. जबकि10 बजे पूरी सुनवाई हो गई थी.

इससे पहले 29 मई को भी जमानत पर सुनवाई हुई थी. उस दिन एक जून का डेट दिया गया था. वहीं 27 मई को हुई सुनवाई में पप्पू यादव का बेल रिजेक्ट हो गया है. मधेपुरा कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान सीजेएम प्रथम अनुप कुमार सिंह ने जानकारी के बावजूद कोर्ट में हाजिर नहीं होने के मामले को गंभीरता से लेते हुए पूर्व सांसद का बेल रिजेक्ट कर दिया. बेल पिटिशन के लिए पूर्व सांसद के अधिवक्ता मनोज कुमार अम्बष्ठ व सुप्रीम कोर्ट के वरीय अधिवक्ता मनन कुमार मिश्रा ने अपना पक्ष रखा था.

ये भी पढ़ेंः जेल में भूख-हड़ताल पर बैठे पप्पू यादव, कहा- ‘न पानी है, न वाशरूम,माफिया को बेनकाब करने की मिल रही सजा

बता दें कि जाप सुप्रीमो सह मधेपुरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव को अपहरण के एक 32 साल पुराने मामले में कोर्ट ने जेल भेज दिया था. पप्पू यादव पर वर्ष 1989 में सूचक शैलेंद्र यादव ने मुरलीगंज थाना में राम कुमार यादव तथा उमाशंकर यादव के अपहरण किए जाने का मामला दर्ज करवाया था. इसी मामले में पटना पुलिस ने 12 मई को उन्हें गिरफ्तार किया था. इसके बाद मधेपुरा पुलिस ने उन्हें यहां लाया. कोर्ट में सुनवाई के बाद उन्हें बीरपुर जेल भेज दिया गया है. हालांकि, पूर्व सांसद की तबीयत खराब होने के कारण दरभंगा इलाज के लिए भेज दिया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here