0Shares

Patna Junction History : भारत में दुनिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क हैं। अब तो भारत से पड़ोसी देशों जैसे, बांग्लादेश जाने के लिये ट्रेन सेवा की शुरूआत हो गयी है। देश में रेलवे की शुरुआत सबसे पहले साल 1853 में मुंबई और ठाणे के बीच हुई थी। बिहार में भी 1861 ई. में ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया था। इसी समय राज्य का पहला स्टेशन बन कर तैयार हुआ था, लेकिन वह आज का पटना जंक्शन नहीं था।

दरअसल पटना स्टेशन के नाम से शुरू हुआ यह रेलवे स्टेशन वर्तमान का पटना साहिब रेलवे स्टेशन था। यह मुगलसराय हावड़ा रूट पर पड़ता था।

Patna Junction History

Also Read : Raxaul-Kathmandu New Railway Line : रक्सौल से काठमांडू तक बनने वाली नयी रेलवे लाइन हेतु तीसरे चरण के सर्वे का काम जारी

Patna Junction History : 1939 में पटना सिटी पड़ा था नाम

पटना साहिब का यह रेलवे स्टेशन ब्रिटिश काल के दौरान वर्ष 1861 में पटना स्टेशन के रूप में स्थापित किया गया था। वहीं, वर्ष 1867 में फतुहा से दानापुर के बीच रेलवे लाइन का दोहरिकरण किया गया था। पटना साहिब स्टेशन को कभी बेगमपुर और बांकीपुर के नाम से भी जाना जाता था। बाद में जब पटना गया रेलवे लाइन का निर्माण हुआ तब जाकर वर्ष 1939 में पटना जंक्शन बना और पुराने स्टेशन का नाम बदल कर पटना सिटी रखा गया।

रेल मंत्री बूटा सिंह ने रखा पटना साहिब नाम
पटना सिटी स्टेशन का नाम बाद में सिखों के दसवें गुरु की जन्मस्थली होने की वजह से पटना साहिब कर दिया गया। 1976 में रेल मंत्री सरदार बूटा सिंह ने इस स्टेशन का नाम बदल कर पटना साहिब रखा था। इस स्टेशन का बाहरी गुंबद भी गुरुद्वारे के जैसा ही बनाया गया है। वर्तमान में यहां से 100 से अधिक रेलगाड़िया रोज गुजरती हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.