नालंदाः बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू है, बावजूद इसके नालंदा में अवैध रूप से इसका कारोबार चल रहा है. शराब की कारोबार में जुड़े कारोबारी विरोध करने पर प्रताड़ित करने से लेकर झूठे केस में फंसाने की भी धमकी देते हैं. ऐसा ही एक मामला जिले में आई हैं.

गिरियक प्रखंड स्थित रैतर गांव के विनेश प्रसाद, सुरेन्द्र प्रसाद, मुकेश प्रसाद, रविन्द्र प्रसाद, सुनील प्रसाद, महेश प्रसाद, रवि कुमार गुप्ता, विनीता देवी, जितेन्द्र कुमार, नन्दलाल प्रसाद समेत सैकड़ों ग्रामीणों ने शनिवार को एसपी कार्यालय पहुंचे. ग्रामीणों ने आवेदन देकर कहा है कि गांव के ही शराब माफिया राजेश कुमार अंग्रेजी शराब का धंधा बड़े पैमाने पर कर रहा है.

अगल-बगल इलाकों में करता है शराब की सप्लाई

ग्रामीणों का आरोप है कि राजेश कुमार बड़े पैमाने पर शराब मंगगवाता है. गरीब एवं बेरोजगार लोगों को पैसे का लालच देकर उनके घरों में शराब रखवा कर उनकी सहायता से शराब की बिक्री करवाता है. लोगों का कहना है कि  यहाँ से शराब दूसरे गाँव एवं कतरी सराय, बिहार शरीफ तक भेजी जाती हैं. हालांकि जो व्यक्ति इस धंधे से निकलना चाहता है उसे प्रशासन से पकड़ाने की धमकी देता है.

पुलिस की पकड़ से फरार है आरोपी

शराब के कारोबार के कारण गांव में बाहरी असामाजिक तत्व माहौल को दूषित कर रहे हैं. जिसका नतीजा है कि पिछले कुछ महीने में कई चोरी की घटना घट चुकी है. ग्रामीणों ने बताया कि अवैध शराब के मामले में राजेश कुमार दीपनगर थाना में पूर्व से दर्ज प्राथमिकी मामले में फरार चल रहा है. 1 फरवरी को बड़ी मात्रा में अंग्रेजी शराब एवं बीयर के साथ पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया था. गिरफ्तार लोगों ने पुलिस के सामने राजेश कुमार का नाम लिया था.

                                                    नालंदा पुलिस अधीक्षक का ऑफिस

ये भी पढ़ेंः रूपेश हत्याकांड का मुख्य आरोपी रितुराज पुलिस रिमांड पर, हो सकता है बड़ा खुलासा!

ग्रामीणों का कहना है की राजेश कुमार पूर्व में दूध काटने का धंधा भी करता था जिसके कारण उसपर पावापुरी एवं नवादा के अकबरपुर थाना प्राथमिकी दर्ज है. जो लोग इसके गलत कार्य के विरोध में बोलते है उन्हें वह आसामाजिक तत्वों से प्रताड़ित करने के साथ झूठे केस में फसाने की धमकी देता है. ग्रामीणों ने इस मामले में एसपी से कार्यवाई की मांग की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here