0Shares

अब तक 12 करोड़ से ज्यादा लाभार्थी किसान केंद्र सरकार की तरफ से संचालित पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़ चुके हैं। अब सबको यह इंतज़ार है की 11वीं किश्त कब तक उनके खाते में आएगी। प‍िछले साल के हिसाब से देखा जाये तो 11वीं किश्त आने में काफी देरी हो चुकी है। साल 2021 में अप्रैल-जुलाई की किश्त 15 मई को किसानों के खातों में भेज दी गई थी, लेकिन, इस बार क‍िस्‍त के 31 मई तक आने की उम्‍मीद है।

वैसे तो यह किश्त अप्रैल के महीने में ही जारी की जाने वाली थी लेकिन, किसान पहचान पत्र में कुछ त्रुटियों के कारण इस किश्त को मई के महीने में जारी किया जाएगाm देश के करोड़ों लाभार्थी किसानों के खाते में 11वीं किश्त को केंद्र सरकार अप्रैल से जुलाई महीने के बीच में कभी भी जारी कर सकती है। हालांकि, यह भी संभव है पिछले साल की तरह इस साल भी किसानों के खाते में ये पैसा मई के महीने में ही आ सकता है।

आपको बता दें की इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों को यदि 11वीं किश्त चाहिए, तो उनके लिए ई-केवाईसी करवाना अनिवार्य है, लेकिन किसान पोर्टल से ई-केवाईसी का विकल्प हट गया है। ऐसे में जिन लोगों ने अब तक केवाईसी नहीं करवाई है, वो परेशान हैं कि क्या उन्हें किश्त के पैसे आगे नहीं मिल पाएंगे? तो चलिए आपको इस बारे में बताते हैं।

अब किसान मोबाइल या किसी अन्य साइबर कैफे से ई-केवाईसी नहीं करा पाएंगे। इसके लिए पास के सुविधा केंद्र पर जाना होगा। जो काम मुफ्त में हो रहा था, अब उसके लिए इन किसानों को रुपये चुकाने होंगे। सरकार ने समय सीमा 31 मार्च से बढ़ाकर 31 मई कर दी थी, लेकिन अब किसानों को ई-केवाईसी के लिए हर हाल में सुविधा केंद्र पर ही जाना होगा और वहां उन्हें इसके लिए 15 रुपये का भुगतान भी करना होगा।

किसान सम्मान निधि

किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा बदलाव

मोदी सरकार ने बीते साल पीएम किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा बदलाव किया था, जिसके हिसाब से अब 11वीं किश्त के लिए किसानों को e-KYC पूरी करनी होगी। ये काम किसानों को 22 मई 2022 से पहले पूरा करना होगा। ये काम आप अपने मोबाइल से भी कर सकते हैं।

अब तक 10 किश्तों की राशि किसानों की दी गई है। 10वीं किश्त एक जनवरी 2022 को किसानों के बैंक खाते में ट्रांसफर की गई थी। इसमें 10.09 करोड़ से अधिक किसानों को 20,900 करोड़ रुपये उनके बैंक खातों में डाले गए थे।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को पहली किश्त का पैसा अमूमन 1 अप्रैल से 31 जुलाई के बीच में पहुँचा दिया जाता हैं। वहीं, दूसरी किश्त का पैसा तक़रीबन 1 अगस्त से 30 नवंबर के बीच में किसानो के खातों में सीधा भेज दिया जाता हैं। इसके अलावा तीसरी किश्त का पैसा 1 दिसंबर से 31 मार्च तक के बीच में ट्रांसफर कर दिया जाता हैं। अगर देखा जाए तो अप्रैल की शुरुआत में किसानों के खाते में 11 किश्त का पैसा जाएगा।

पहला बदलाव

पहले लाभार्थी पीएम किसान पोर्टल पर जा कर अपनी किसी भी किस्त के स्टैटस की जानकारी ले सकता था, लेकिन केंद्र सरकार ने अब नियम बदल दिए हैं। अब आपको पोर्टल पर अपना स्टैटस देखने के लिए सबसे पहले अपना मोबाइल नम्बर एंटर करना होगा। तभी आप डिटेल्स देख पाएंगे।

दूसरा बदलाव

दूसरे बदलाव में केंद्र सरकार ने E-KYC को अनिवार्य कर दिया हैं। अगर आपने ई-केवायसी नही करवाया हैं, तो आप केंद्र की इस योजना का लाभ नहीं ले पाएंगे। 11वीं किश्त का पैसा भी आपके खाते में नहीं आएगा। इसलिए जल्द से जल्द आप ई-केवायसी करवाए।

क्या है पीएम किसान सम्मान योजना?
केंद्र की मोदी सरकार ने साल 2018 में प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना की शुरुआत की थी। इस योजना में मध्यम वर्गीय किसान परिवारों के खातों में सालाना 6,000 रुपये की धनराशि भेजी जाती हैं।

किसान सम्मान निधि

कैसे चेक करें पीएम किसान सम्मान निधि स्टेटस?

पीएम किसान सम्मान निधि स्टेटस चेक करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स फ़ॉलो करें

  1. सबसे पहले आपको पीएम किसान की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in2022 list पर जाना हैं।
  2. आपके दाई तरफ ‘Farmers Corner’ का विकल्प मिलेगा।
  3. फिर आपको ‘beneficiary status’ के ऑप्शन पर क्लिक करना हैं, जिससे नया पेज खुल जाएगा।
  4. नए पेज पर मोबाइल नंबर, बैंक खाता या आधार नंबर में से किसी एक को चुने।
  5. विकल्प चुनने के बाद आप उसकी डिटेल भरे फिर Get Data पर क्लिक करें।
  6. इसके बाद लाभार्थी किसानों की सभी किस्तों का PM Kisan Status सामने आ जाएगा।

पैसे ना मिलने पर कहां करें शिकायत ?

अगर आपको केंद्र द्वारा संचालित इस योजना के तहत आने वाली धनराशि नहीं मिल रही हैं या पीएम किसान योजना से जुड़ी किसी भी तरह की कोई समस्या आ रही है तो आप pmkisan-icr@gov.in पर ईमेल कर सकते हैं। या फिर पीएम किसान टोल फ्री नम्बर 18001155266 इसके अलवा लैंडलाइन नम्बर 0120-6025109, 011-24300606 भी हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.