0Shares

PM Modi Unveiled the National Emblem : सोमवार यानी 11 जुलाई को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए संसद भवन की छत पर बने राष्ट्रीय प्रतीक का अनावरण किया। साथ ही इस दौरान उन्होंने काम में लगे श्रमजीवियों से भी बातचीत की।

बता दें कि कांस्य से बने इस राष्ट्रीय प्रतीक का वजन लगभग 9,500 किलोग्राम है। यह राष्ट्रीय प्रतीक 6.5 मीटर ऊंचा है। इसे न्यू पार्लियामेंट बिल्डिंग के सेंट्रल फोयर के शीर्ष पर कास्ट किया गया है। प्रतीक के सपोर्ट के लिए लगभग 6,500 किलोग्राम वजन वाली स्टील की एक सहायक संरचना बनायी गयी है। दिल्ली में बन रही नई संसद के ऊपरी तल पर अशोक स्तंभ लगा दिया गया है, जिसकी ऊंचाई 20 फीट है।

PM Modi Unveiled the National Emblem

Also Read : Deoghar Airport Inauguration : देवघर एयरपोर्ट का प्रधानमंत्री 12 जुलाई को करेंगे उद्घाटन, इन शहरों के लोगों को मिलेगा लाभ

PM Modi Unveiled the National Emblem : इसे भवन के ऊपरी तल पर लगाया गया

नए संसद भवन की छत पर राष्ट्रीय प्रतीक की ढलाई की प्रक्रिया क्ले मॉडलिंग/कंप्यूटर ग्राफिक से ब्रॉन्ज कास्टिंग और पॉलिशिंग तक विभिन्न 8 चरणों से गुजरी है। हालांकि, पहले इसे नए संसद भवन के शिखर पर लगाने का प्रस्ताव था, लेकिन इस योजना में परिवर्तन करते हुए इसे भवन के ऊपरी तल पर लगाया गया है।

जानकारी के लिये बता दें कि भारत का राष्ट्रीय चिह्न ‘अशोक स्तंभ’ मौर्य साम्राज्य के सम्राट अशोक के द्वारा सारनाथ में बनवाये गए स्तंभ से लिया गया है। इस स्तंभ के शीर्ष पर 4 शेर खड़े हैं और उनका मुंह चारों दिशाओं में हैं। शेर का पिछला हिस्सा खंभों से जुड़ा हुआ है। संरचना के सामने इसमें धर्म चक्र भी है, जो भारत के प्रतीक शक्ति, गर्व, हिम्मत और विश्वास को प्रदर्शित करता है। पहिये के हर तरफ एक अश्व और बैल बना हुआ है। इसके प्रयोग को नियंत्रित और प्रतिबंधित करने का कार्य राज्य प्रतीक की भारतीय धारा, 2005 के अंतर्गत किया जाता है।

आपको बता दें कि यह भारत का आधिकारिक चिह्न है, जिसे 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू करते समय स्वीकृत किया गया था। इस स्तंभ शिखर पर देवनागरी लिपि में ‘सत्यमेव जयते’ लिखा है। जिसका अर्थ है ‘सच्चाई एकमात्र जीत’ इसे मुण्डकोपनिषद से लिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.