कोरोना के इलाज के नाम पर नाजायज पैसे वसूलने को लेकर परिजन और निजी अस्पताल के कर्मचारियों में मारपीट

0
5

पटनाः कोरोना का कहर दिन प्रतिदिन भयावह होता जा रहा है. बिहार भी इससे अछूता नहीं है. बिहार की भी स्थिति बदत्तर हो गयी है. कोरोना का इलाज के लिए निजी अस्पतालों को भी प्रशासन ने निर्देश दिया है. लेकिन इलाज के नाम पर लूट-खसोट के मामले कम नहीं हो रहे.

इसी क्रम में आज खबर राजधानी पटना से है जहां कंकड़बाग में एक निजी हॉस्पिटल ऑक्सीजोन पर कोविड-19 के इलाज के नाम पर नाजायज पैसे वसूलने का आरोप लगाया गया है. बात इतनी बढ़ी कि दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए. एक तरफ हॉस्पिटल के कर्मचारी थे तो दूसरी तरफ मरीज के परिजन. मरीज के परिजनों का आरोप है कि उनसे पैसे के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था और जब उन्होंने इसकी शिकायत जिला प्रशासन से की तब उन्हें धमकाया गया और फिर डॉक्टर के केबिन में ले जाकर मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया.

ये भी पढ़ेंः  NMCH में संक्रमित की मौत पर जमकर तोड़फोड़, जान बचाने के लिए कमरे में डॉक्टरों ने खुद को किया बंद

वहीं, हॉस्पिटल प्रबंधन का दावा है कि वह कोविड-19 का इलाज नहीं कर रहा. जब मरीज आया था तो वह बेचैनी की स्थिति में था उन्हें स्टेबल करवाया. उसके बाद जब हमने परिजनों को मरीज के हार्ट अटैक के संबंध में बताया. मरीज को ले जाने को कहा तो वो कभी डीएम साहब के यहाँ जाने लगे तो कभी कुछ करने लगे. फिर जाँच की टीम आयी लेकिन उन्हें कुछ भी नहीं मिला और जब हमने बिल पेमेंट करने को कहा तो परिजन हंगामा और हॉस्पिटल में तोड़फोड़ करने लगे.

पटना से विशाल भारद्वाज की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here