रेपिस्टों को सजा देने के लिए लगातार कड़े कानून बनाने की मांग की जाती रही है. अलग-अलग देशों में रेपिस्टों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाती है. इंडोनेशिया ने हाल में ही में एक विवादित कानून को मजबूत करते हुए एक सरकारी नियामवली को पास किया है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

बच्चों के साथ यौन शोषण करने वाले लोगों को रसायनिक तरीके से बधियाकरण किया जाएगा. इसे केमिकल कास्ट्रेशन भी कहा जाता है. अपराधियों को इंजेक्शन के सहारे एक सॉल्यूशन दिया जाएगा ताकि इनके टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन्स काफी कम हो जाए और इन अपराधियों की यौन इच्छाएं लगभग खत्म हो जाएं. इंडोनेशिया रेपिस्टों को सजा देने के लिए कई कदम पहले भी उठा चुके हैं.

सऊदी में कठोर सजा

सऊदी अरब में रेप को लेकर बेहद सख्त सजा का प्रावधान है. रेप के दोषियों को फांसी पर टांग दिया जाता है और उसके यौनांगों को काटने की सजा भी सुनाई जा सकती है. वहीं, अफगानिस्तान, इराक और ईरान में भी रेपिस्ट्स को सजा-ए-मौत दी जाती है.
चीन में मृत्युदंड का प्रावधान

चीन में भी रेप के आरोपियों को मौत की सजा दी जाती है. चीन में इस जुर्म की सजा जल्द-जल्‍द दी जाती है. खास बात यह है कि मेडिकल जांच में प्रमाणित होने के बाद बिना ट्रायल के ही मृत्यु दंड दिया जाता है. जबकि बेहद जघन्य अपराध होने पर रेपिस्ट के प्राइवेट पार्ट भी काट लिया जाता है.

नाइजीरिया में बनाया जाता है नपुंसक

नाइजीरिया में कुछ समय पहले ही सरकार ने फैसला लिया था कि रेप के दोषियों को नपुंसक बनाया जाएगा. नाबालिग के साथ रेप करने की स्थिति में अपराधी को फांसी दी जाएगी. सरकार ने यह फैसला कोरोना काल में तेजी से बढ़ी रेप की घटनाओं को देखते हुए लिया गया था.

ये भी पढ़ेंः जबरदस्ती करने घर में घुसा तो महिला ने गड़ासे से काट डाला प्राइवेट पार्ट, दी दर्दनाक मौत

चेक रिपब्लिक में बनाया जाता है नपुंसक

दूसरी तरफ चेक रिपब्लिक में रेपिस्ट के लिए सर्जिकल कास्ट्रेशन का कानून है. यानी अगर किसी पर रेप साबित होता है तो इस व्यक्ति की सर्जरी कर उसे नपुंसक बना दिया जाता है. पिछले कई सालों से इस देश में ये कानून लागू है. हालांकि कई मानवाधिकार कार्यकर्ता इस कानून का विरोध करते हैं.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here