दोस्तों क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो भारत में सबसे ज्यादा पॉपुलर है इस खेल के खिलाड़ियों को लोग अपना आइकन मानते है। जब कोई खिलाड़ी टीम में आता है तो उसे कभी न कभी रिटायर होना पड़ता ही है। हर एक धुरंधर खिलाड़ी अंत में आकर रिटायरमेंट ले लेते हैं

 

अभी हाल ही में भारत के सबसे सफल गेंदबाजों में से एक हरभजन सिंह ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से रिटायरमेंट लेने की घोषणा कर दी है। अभी हरभजन सिंह 41 वर्ष के हो गए हैं और वह कुछ सालों से क्रिकेट से दूर ही रह रहे हैं। दोस्तों 2011 के वर्ल्ड कप के बाद से ही हरभजन सिंह को इतने मौके नहीं मिले हैं लेकिन 2016 के बाद तो उनको टीम से बाहर ही बैठा दिया गया है। और अब 5 साल बाद वे क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से रिटायर हो चुके हैं।
रिटायरमेंट के बाद सभी मीडिया उनसे इंटरव्यू ले रही है और ऐसे ही एक इंटरव्यू में हरभजन सिंह ने महेंद्र सिंह धोनी को लेकर ऐसी बात बोल दी है जिससे कि माही के फैन खुश नहीं होंगे। हरभजन सिंह का कहना है कि मेरा टीम से बाहर होने का कारण शायद धोनी हो सकते है।

2011 के बाद से ही मैंने केवल 10 टेस्ट और 10 वनडे मैच खेले हैं मुझे बार-बार टीम से अंदर-बाहर किया गया जिसके कारण में काफी निराश हो गया था। और इसकी वजह है मुझे कभी पता नहीं चल सकी कि मुझे टीम से बाहर क्यों किया गया। इसके बारे में जब मैंने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से पूछा तो उन्होंने भी कुछ स्पष्ट तौर पर नहीं बताया। और मैंने ऐसा एक दो बार ही नहीं काफी बार किया है लेकिन हर बार मुझे हताश रहना पड़ा और अंत में आकर मैंने किसी से भी पूछना अच्छा नहीं समझा। मुझे लगता है कि किसी भी खिलाड़ी को टीम से बाहर किया गया है तो उसे उसका कारण भी बताना चाहिए।

हरभजन सिंह ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत सौरव गांगुली की कप्तानी में की थी जिन्होंने उन्हें पहचाना और उन्हें निखार कर आगे लाए। बाद में महेंद्र सिंह धोनी को एक तराशा हुआ हीरा मिल गया था जिन्होंने काफी अच्छा प्रदर्शन भी किया है और टेस्ट में 400 विकेट लेने वाले खिलाड़ियों में अपना नाम लिखवा लिया था। अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद उनको 2013 चैंपियंस ट्रॉफी और 2015 के वनडे वर्ल्ड कप में जगह नहीं मिली। और उन्होंने अपना अंतिम मैच 2016 में खेला। इस बात को अब 5 साल बीत गए हैं अब वापसी करने का कोई भी रास्ता नहीं दिखाई देने पर उन्होंने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया है। सन्यास लेने पर बीसीसीआई ने भी उनको ट्वीट करके आगे के भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी हैं।