पटनाः बुधवार को वाहन चेंकिग के दौरान राजधानी पटना में बिस्कोमान भवन के पास पुलिस ने राजद नेता संजय सिंह की फॅार्चूनर से 74 लाख कैश बरामद किए थे. इस मामले की जांच के लिए पुलिस संजय सिंह के घर पर पूछताछ करने के लिए सासाराम गई. लेकिन वह अपने परिवार वालों के साथ वहां से फरार हो गए.  इस मामले को लेकर आयकर विभाग संजय सिंह पर शिकंजा कस रही है.

बता दें कि पुलिस ने वाहन चेंकिग के दौरान दो लोगों को अपनी गिरफ्त में लिया था. जिससे आयकर विभाग की टीम पूछताछ की. वहीं, पूछताछ में वाहन के चालक सोनू ने बताया कि यह सभी रकम संजय सिंह की है. बताया जा रहा है कि संजय सिंह से एक एमएलसी ने टिकट दिलवाने के लिए यह रकम मंगवाई थी. एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने कहा कि संजय सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है. अगर संजय सिंह पैसों को लेकर कोई सबूत नहीं देते हैं, तो आयकर विभाग इसे जब्त कर लेगा.

ये भी पढ़ेंः MLA के टिकट का सपना लेकर पटना पहुंचे नेता जी का धरा गया सारा कैश, गिनने में पुलिस के छूट गए पसीने

वहीं, आयकर विभाग ने संजय काे 36 घंटे के अंदर उपस्थित होने की बात कही है. संजय को आयकर विभाग के सामने बरामद पैसे के बारे में जानकारी देनी होगी की कहां से इतना कैश आया. आयकर विभाग काे बरामद रकम के बारे में जानकारी नहीं देना पड़ेगा, किस मकसद से इतनी बड़ी रकम लायी गई थी. या फिर किसको इतनी बड़ी रकम देनी थी. अगर आरजेडी नेता सामने आकर नहीं बताते हैं तो कैश को जब्त भी किया जा सकता है.

कैश गिनने में एक घंटे से ज्यादा लगा था समय

बता दें कि पटना पुलिस ने कार के रजिस्ट्रेशन नंबर के आधार पर कार मालिक के बारे में पूरी जानकारी इकट्ठा की थी. जिससे स्पष्ट हो गया है कि संजय सिंह के नाम से रजिस्टर्ड है. 25 मई 2017 को वाराणसी डीटीओ से गाड़ी का रजिट्रेशन हुआ है. पटना में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामदगी की सूचना पर सिटी एसपी विनय तिवारी, सदर एसडीओ, सदर बीडीओ समेत कई पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी गांधी मैदान थाना पहुंचे थे. रकम गिनने में ही पुलिस को करीब एक घंटे से ज्यादा का वक्‍त लग गया था.

Get Daily City News Updates

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *