जहानाबाद: बिहार विधानसभा चुनाव में सुपड़ा साफ होने के बाद उपेंद्र कुशवाहा को लगातार झटका लग रहा है. पार्टी के कई सीनियर लीडर पार्टी छोड़ कर दूसरे पार्टी में जा चुके हैं. ऐसे में जिले के कद्दावर नेता आरएलएसपी के प्रदेश उपाध्यक्ष गोपाल शर्मा शनिवार को अपने समर्थकों के साथ स्थानीय नगर भवन में आयोजित मिलन समारोह में कांग्रेस का हाथ थाम लिया.

कांग्रेस के चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि जहानाबाद जिला कांग्रेस का गढ़ माना जाता रहा है और यही वजह है कि आज भी यहां समर्थकों का हुजूम उमड़ पड़ा है. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की नीतियों की वजह से लोगों का विश्वास कांग्रेस और राहुल गांधी में बढ़ता जा रहा है.

शराबबंदी है आर्थिक शोषण 

नीतीश सरकार पर जमकर प्रहार करते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा कि नीतीश सरकार की आपसी कलह पूरे बिहार में अपराधिक घटनाओं को बढ़ावा दे रही है. इस सरकार में शराबबंदी के नाम पर आर्थिक शोषण आमजनों से किया जा रहा है. शराबबंदी कानून से सिर्फ बिहार सरकार को राजस्व की क्षति हो रही है. शराबबंदी के समानांतर प्रशासन के मिलीभगत से धन की उगाही की जा रही है.

ये भी पढ़ें:नये फरमान पर भड़के तेजस्वी ने नीतीश को दिया ओपेन चैलेंज, है हिम्मत तो मुझे अरेस्ट करो

गोपाल शर्मा के आगमन से कांग्रेस मजबूत 

सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने को लेकर अखिलेश सिंह ने कहा कि बिहार सरकार द्वारा लगाए गए बैन पर उन्होंने कहा कि यह बोलने की आजादी पर रोक है. इसे अविलंब सरकार को वापस लेना चाहिए. इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष समीर कुमार सिंह ने जहानाबाद में कांग्रेस में आए गोपाल शर्मा का स्वागत किया और कहा गोपाल शर्मा के आने से कांग्रेस और मजबूत होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here