पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन से बाहर निकलते ही आरएलएसपी में बड़ी टूट हुई थी. आरजेडी ने उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी आरएलएसपी के कई बड़ी नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कराते हुए विधानसभा चुनाव का टिकट थमा दिया था और वो नेता चुनाव भी जीत गए. एक बार फिर से आरजेडी ने रालोसपा नेताओं को तोड़ा है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के सबसे करीबियों में शामिल राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश यादव ने तेजस्वी यादव का दामन थाम लिया है. रालोसपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश यादव के साथ राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रो. सुबोध मेहता ने भी नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के समक्ष पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है.

ये भी पढ़ेंः कमजोर पड़े नीतीश ने की छोटे भाई उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात! बढ़ी सियासी हलचल

इसकी जानकारी देते हुए आरजेडी के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने प्रेस रिलिज जारी की है. दोनों नेताओं ने बिहार विधानसभा चुनाव मं पार्टी की दुर्दशा के लिए उपेंद्र कुशवाहा पर ठीकरा फोड़ा था. राष्ट्रीय प्रवक्ता और बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुबोध मेहता ने कहा था कि पार्टी अपने मूल मुद्दे पढ़ाई, लिखाई, सिंचाई, दवाई, कार्रवाई से भटक गई. जिसे आरजेडी लपकते हुए चुनाव में भुनाया. उन्होंने पत्र लिख कर अपना इस्तीफा दे दिया था.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here