सुशील मोदी से सोशल वार के बाद सामने आई रोहिणी आचार्य, राजनीति में एंट्री को लेकर बड़ा बयान

0
10

पटनाः बिहार में कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच सियासी वार और पलटवार का दौर जारी है. सोशल मीडिया में लालू यादव की दूसरी बेटी रोहिणी आचार्य का ट्वीट खूब चर्चा में है. रोहिणी ने बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी के बयान पर निशाना साधा था. ट्वीट पर विवाद के बीच रोहिणी ने एक मीडिया हाउस से खास बातचीत करते हुए नीतीश सरकार पर जमकर हमला बोला है.

हिंदी टीवी चैनल एबीपी न्यूज से बात करते हुए रोहिणी ने स्पश्ट कर दिया कि उनका राजनीति से कोई वास्ता नहीं है. उन्होंने कहा है कि उन्होंने जो भी ट्वीट किया है, वो सही है. उन्होंने आगे कहा कि मैं राजनीति में नहीं हूं, लेकिन अगर कोई शख्स मेरे परिवार के बारे में या मेरी बहनों के बारे में कुछ कहेगा तो, मैं उसे बिल्कुल नहीं छोड़ूंगी.

 

उनके खिलाफ बोलेगा तो चुप्प नहीं बैठेंगी

रोहिणी ने कहा, ना हीं मैं सरकार में हूं और ना हीं सत्ता से कोई मतलब नहीं है. जब कोई पर्सनल सवाल घर की बेटी-बहन के बारे में बोलने लगेगा तो उसे सुनना तो पड़ेगा ही. कल को आपकी बेटी-बहन के बारे में कोई बोलेगा तो क्या मुंह बंद कर लेंगे? रही बात राजनीति की, तो मोदी (सुशील मोदी) तेजस्वी की बहन के बारे में क्यों बोलते हैं? बोलना है तो पॉलिटिकल जितना बोलना है बोलें. भारत का दुर्भाग्य है कि बेटी-बहन को ये लोग गंदी राजनीति में घसीट लाते हैं और ट्रोलर्स की फौज उतार देते हैं. जितना ये मुझे गाली देंगे उनको हम मुंह तोड़ जवाब देंगे.

लालू की तरह निडर है रोहिणी

रोहिणी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि, वो पिता की तरह ही निर्भीक और निडर हैं इसलिए न्यूज चैनल से बात भी कर रही हैं.. नहीं तो ऐसे वो किसी से बात भी नहीं करती. अपनी बात अपने लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से उठाती हैं और आगे भी उठाती रहेंगी. आखिर हम जिंदा कौम हैं आवाज तो बुलंद करेंगे ही. मुर्दा थोड़ी हैं जो आंख के अंधे और मुहं के गूंगे बनकर तमाशा देखें. पापा सबको मानते हैं और सम्मान देते हैं, लेकिन लोग उनका फायदा उठा लेते हैं.

ये भी पढ़ेंः एक-दूसरे से भिड़ गई दो पूर्व सीएम की बेटी-बहू, मांझी की बहू ने लालू की बेटी रोहिणी की ठेठ भाषा में लगाई क्लास

लालू की बेटी ने आगे कहा. मेरे रोल मॉडल मेरे पापा हैं. मेरे पापा की तरह हर वो निडर निर्भीक इंसान जो जनता के हक के लिए सिस्टम से लड़ जाए बिना परवाह किए कि उसके साथ सिस्टम क्या कर सकता है, मेरा उसूल है नेकी कर दरिया में डाल. पापा यही बोलते थे, जब भी कोई उनको धोखा देता है तो.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here