T20 WORLD CUP: टी 20 विश्व कप से पहले पाकिस्तान की तरफ से इमोशन कार्ड खेला जाना शुरू हो गया है. पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत को वर्ल्ड क्रिकेट को अपने इशारे पर नचाने का आरोप लगाया. वहीं, अब खिलाड़ी ने करियर तबाह करने का आरोप लगाया है.

दूसरा बॉल पर अजमल के बेबाक बोल

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर सईद अजमल ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के बाद बड़ा बयान देते हुए बीसीसीआई को कटघरे में खड़ा कर दिया है. उनका कहना है कि बीसीसीआई के पास बहुत पैसा है और पैसा ही सबकुछ है. इससे स्पॉन्सर भी मिलते हैं और यही वजह है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) वित्तीय रूप से भी इस वजह से टिकी हुई है. सईद अजमल ने एक निजी टीवी चैनल के साथ बातचीत में अपने फेमस स्पिन तकनीक दूसरा पर भी बात की. इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की तरफ से अजमल के दूसरा पर प्रतिबंध लगाने पर भी बयान दिया.

अश्विन हरभजन पर उठाये सवाल

जिओ न्यूज ने अजमल के हवाले से कहा, ‘आईसीसी ने भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को मुझ पर चार्ज लगाने से पहले छह महीने के लिए गेंदबाजी करने से रोक दिया था. अश्विन को छह माह का रेस्ट करने के लिए कह दिया गया. मुझे और मोहम्मद हफीज को किनारे लगा दिया गया.’

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर ने दावा करते हुए कहा, ‘भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और गेंदबाज हरभजन सिंह की गेंदबाजी में भी समस्या थी. लेकिन वे भारत से आते हैं और उनके बोर्ड के पास पैसा और स्पॉन्सर हैं और पैसा ही सबसे ऊपर होता है. इन खिलाड़ियों को किसी तरह के विवाद का सामना नहीं करना पड़ता.’

इमरान खान भी लगा चुके हैं आरोप

बता दें क इससे पहले, पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और मौजूदा प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीसीसीआई और वर्ल्ड क्रिकेट पर बड़ा बयान दिया था. उनका कहना था कि पैसा बोलता है और बीसीसीआई दुनिया का सबसे अमीर बोर्ड है इसलिए वह वर्ल्ड क्रिकेट को कंट्रोल करता है. इमरान ने इंग्लैंड, न्यूजीलैंड को चैलेंज करते हुए कहा था कि उनके अंदर भारत के खिलाफ दौरा रद्द करने की हिम्मत किसी में नहीं है क्योंकि पैसा बोलता है. गौरतलब है कि आगामी टी20 वर्ल्ड कप में भारत का पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ ही है. पाकिस्तान अब तक टी20 विश्व कप में भी एक भी मैच जीतने में कामयाब नहीं हो सका है.

Leave a comment

Your email address will not be published.