पटनाः आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने आज शराबबंदी को लेकर सत्ता पक्ष पर गंभीर आरोप लगाया है. आरजेडी नेता का कहना है कि सीएम के रसूखदार नेताओं और चहेते पदाधिकारियों की मदद से बिहार में धड़ल्ले से शराब की बिक्री हो रही है.

आरजेडी विधायक ने कहा कि राजधानी पटना में 7 करोड़ का शराब पकड़ा जा रहा है. लेकिन सरकार पीठ ठोकती है यह कह कर की बिहार में शराब पर रोक लगा दी गई है जबकि बॉडर से यूपी, मध्यप्रदेश, झारखंड, नेपाल कहीं से भी  शराब आ रही है. ऐसे में पुलिस और पदाधिकारी क्या कर रहे हैं, सरकार क्या कर रही है. इन सवालों को लेकर आज सदन में बहस हुई.

शराब के नाम पर मची है लूट

भाई वीरेंद्र ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इसपर जवाब देना चाहिए. बिहार में शराब के नाम पर लूट मची है. सिर्फ गरीब मजदूर तबके के लोगों को जेल में भरा जा रहा है. 2 लाख के करीब कैदी हैं जो जेल में बंद हैं. रसूखदार द्वारा खेप का खेप शराब मंगाया जा रहा है, उनको छूट है. मुख्यमंत्री के बगल में खड़ा होकर फोटो खिंचाने वाले और पदाधिकारियों को छूट है.

ये भी पढ़ेंः विधानसभा में माले विधायकों का जोरदार प्रदर्शन, कहा-लूट-खसोट का सबसे बड़ा जरिया है ‘सात निश्चय’

आरजेडी विधायक ने कहा कि वो इन सवालों का जवाब मुख्यमंत्री से सदन में चाहते थे. लेकिन मुख्यमंत्री जानबूझकर सदन नहीं आये. हम चाहते थे कि वो सदन के नेता हैं, जब महागठबंधन की सरकार बनी थी तब लालू यादव, तेजस्वी यादव और कांग्रेस के अन्य नेताओं ने भी शराबबंदी को लेकर शपथ लिया था. पूरे राज्य में मानव श्रृंखला भी बना जो देश दुनिया में चर्चा का विषय रहा. उतना सफल मानव सृंखला कभी बना भी नहीं बना इसकी बखिया खटिया उड़ाई जा रही है.

पटना से विशाल भारद्वाज की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here