पटनाः बिहार में शराबबंदी को लेकर को लेकर नीतीश कुमार अपने सहयोगी दल के नेताओं के निशाने पर हैं. बीजेपी एमएलसी संजय पासवान ने शराबबंदी पर कुछ ऐसा कह दिया है जिससे एनडीए में बवाल मचा है. उन्‍होंने कहा कि नीतीश सरकार को शराबबंदी पर पुनर्विचार करना चाहिए, क्‍योंकि जिस तरह से पुलिस के जवान पर हमला हुआ उससे मामला और गंभीर हो गया है.

बीजेपी एमएलसी संजय पासवान यही नहीं रुके बल्कि उन्होंने शराब माफिया द्वारा पुलिस पर किए हमले के बहाने गृह सचिव पर भी इशारों-इशारों में बड़ा हमला किया. संजय पासवान ने कहा कि गृह सचिव हमारे मित्र हैं, लेकिन उनसे गृह विभाग नहीं संभल रहा है, जिस तरह से घटनाएं घट रही हैं उन्हें खुद से पद से हट जाना चाहिए.

बीजेपी के निशाने पर नीतीश कुमार

शराबबंदी को लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार लगातार विपक्ष के निशाने पर हैं. जबकि अब उनके सहयोगी भी शराबबंदी पर सवाल उठाने लगे हैं, जो कि सरकार के लिए परेशानी खड़ी कर रहे हैं. यही नहीं, भाजपा एमएलसी संजय पासवान के बयान के बाद जेडीयू भी बैकफुट पर नजर आ रही है.

जेडीयू ने किया पलटवार 

वहीं, बीजेपी एमएलसी के बयान पर जेडीयू के एमएलसी गुलाम गौस ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि  कौन क्या कहता है यह हम नहीं जानते, लेकिन नीतीश कुमार शराबबंदी को लेकर पूरी तरह से गम्भीर हैं और इसमें किसी तरह से समझौता नहीं कर सकते है. बीजेपी एमएलसी का अपना निजी विचार हो सकता है, लेकिन बिहार में मजबूती से शराबबंदी पर काम हो रहा है. दूसरी तरफ शराबबंदी के सवाल पर नीतीश के मंत्री अशोक चौधरी झल्ला गए.

शराबबंदी पर सियासत तेज

मंत्री अशोक चौधरी ने बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि कौन क्या कहता है, इस पर मुझे कुछ नहीं कहना, लेकिन शराबबंदी पर जो लोग सवाल उठाते हैं उन्हें देखना चाहिए इसको लेकर सरकार कितनी गंभीर है. बता दें कि जहां, एक तरफ विपक्ष शराबबंदी पर सवाल खड़े कर रहे हैं. वहीं, बीजेपी एमएलसी के शराबबंदी पर सवाल खड़े करने से सियासत तेज हो गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here