pm modi amit shah

कृषि विधेयक के खिलाफ देश भर में विरोध जारी है. संसद में कृषि बिल के खिलाफ में अकाली दल के कोटे से केंद्र में मंत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफा दे दिया था. अकाली दल के नेता इसके बाद लगातार सड़कों पर उतर कर किसानों का समर्थन कर रहे हैं. वहीं, अब अब अकाली दल ने एनडीए से नाता तोड़ने का फैसला किया है.

अकाली दल के एनडीए से बाहर आने का फैसला पार्टी की बैठक में लिया गया. शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल के नेतृत्व में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक हुई जिसमें बीजेपी से रिश्ते खत्म करने का निर्णय लिया गया. पार्टी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि बीजेपी की नेतृत्व वाली एनडीए से नाता तोड़ रहे हैं. जिसके पीछे का वजह केंद्र सरकार द्वारा कानूनी तौर पर किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य(एमएसपी) की गारंटी न देने की जिद और पंजाबी और सिखों के मुद्दे पर असवेंदनशीलता है.

Sukhbir Singh Badal
सुखबीर सिंह बादल

विधेयक के खिलाफ में अकाली दल

बता दें कि अकाली दल बीजेपी का पुराना सहयोगी रहा है जिसके साथ पंजाब में दोनो मिलकर सरकार भी चला चुके हैं. केंद्र सरकार ने तीन कृषि विधेयकों को संसद द्वारा पारित कराया था. राज्यसभा में बिल पेश करते समय हंगामे के बीच बिना मत विभाजन के बिल को पास कर दिया गया था. इसके खिलाफ पंजाब और हरियाणा में मोदी सरकार द्वारा पारित कृषि विधेयकों के विरोध में किसान सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here