पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार बीजेपी को बागियों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

बिहार की सबसे हॉट सीट मानी जा रही बांकीपुर सीट से बीजेपी की सुषमा साहू ने बतौर निर्दलीय पर्चा भरा जो रद्द हो गया.

इसके बाग उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर स्थानीय विधायक और पार्टी नेतृत्व पर आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व सदस्य सह पीजेपी नेत्री ने पार्टी नेतृत्व पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

सुषमा साहू का कहना है कि उन्होंने लगातार 20 साल पार्टी की सेवा की है. विधायक के हनुमान के रुप में काम भी किया. स्थानीय विधायक के खिलाफ कार्यकर्ताओं में भी भारी नाराजगी है.

ये भी पढ़ेंः  JDU के बागी विधायक ने थामा कांग्रेस का हाथ, नीतीश को घर में ही दे दिया बड़ा टेंशन

सत्ता से लड़ाई पड़ी महंगी

सुषमा साहू ने कहा कि उनका नॉमिनेशन जानबुझकर रद्द किया गया है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पिछड़े समाज और एक साधारण से परिवार से ताल्लुक रखने की वजह से उन्हें निशाना बनाया गया.

उनका नामांकन रद्द करने के पीछे का वजह सत्ता से लड़ाई मोल लेना है. सुषमा साहू का आरोप है कि उनके जन समर्थन के डर से सत्तापक्ष ने नामंकन रद्द करा दिया.
Get Today’s City News Updates

 मैदान में हैं कई दिग्गज 

बता दें कि बांकीपुर सीट से बीजेपी विधायक नितीन नवीन के अलावा पलूरल्स पार्टी की अध्यक्ष और सीएम कैंडिडेट पुष्पम प्रिया चौधरी के अलावा शत्रुध्न सिन्हा के पुत्र लव सिन्हा ने कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रुप में पर्चा भरा है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *