अपने समर्थकों के बीच रॉबिनहुड और जनता के बीच बाहुबली की छवि रखने वाले आरजेडी के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के पार्थिव शरीर को सीवान नहीं लाया जा सका. पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के सुपुर्द-ए-खाक के लिए प्रशासन ने उनके जन्मस्थली सीवान लाने से इनकार कर दिया. जिस पर दिल्ली में समर्थकों ने खुब हंगामा भी किया. वहीं, पार्टी और तेजस्वी के खिलाफ शहाबुद्दीन के बेटे की नाराजगी खुलकर सामने आ गई.

मो. शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा साहब का एक ट्वीट सियासी जगत के चर्चा में आ गया. ओसामा ने सीधे तौर पर तेजस्वी यादव को चैलेंज दे डाला है. ओसामा साहब के नाम से जिस अकाउंट से ट्वीट किया गया है उसमें लिखा गया है. उन्होंने ट्वीट किया- अगर हमारे अब्बू डॉ शहाबुद्दीन साहब अपनी जन्मभूमि सिवान में दफन नहीं हुए तो, तेजस्वी यादव की राजनीति हमेशा के लिए ज़मीन में दफन हो जाएगी, इंशाअल्लाह!! हालांकि, इस ट्विट की पुष्टि नहीं किया जा सकता है. क्योंकि यह वेरीफाइड अकाउंट नहीं है.

सोशल मीडिया में समर्थकों में नाराजगी

ओसामा के इस ट्वीट आरजेडी में खलबली मच गई. आरजेडी के खिलाफ सोशल मीडिया में पोस्ट का अंबार लग गया. कुछ ही पलों में शहाबुद्दीन के समर्थक नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और आरजेडी को निशाने पर ले लिया. हालांकि, तेजस्वी यादव ने भी रिप्लाई किया. उन्होंने लिखा- शासन-प्रशासन ने कोविड प्रोटोकॉल का हवाला देकर अड़ियल रुख़ बनाए रखा. पोस्ट्मॉर्टम के बाद प्रशासन उन्हें कहीं और दफ़नाना चाह रहा था लेकिन अंत में कमिश्नर से बात कर परिजनों द्वारा दिए गए दो विकल्पों में से एक आईटीओ क़ब्रिस्तान की अनुमति दिलाई गयी.

तेजस्वी यादव ने कहा कि ईश्वर मरहूम को जन्नत में आला मकाम दे. इलाज़ के सारे इंतज़ामात से लेकर मय्यत को घरवालों की मर्ज़ी के मुताबिक़ उनके आबाई वतन सिवान में सुपुर्द-ए-ख़ाक करने के लिए मैंने और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने स्वयं तमाम कोशिशें की,परिजनों के सम्पर्क में रहें लेकिन सरकार ने हठधर्मिता अपनाते हुए टाल-मटोल कर आख़िरकार इजाजत नहीं दिया.

हम ईश्वर से मरहूम शहाबुद्दीन साहब की मग़फ़िरत की दुआ करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उन्हें जन्नत में आला मक़ाम मिले. उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है. राजद उनके परिवार वालों के साथ हर मोड़ पर खड़ी रही है और आगे भी रहेगी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here