पटना: नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार की एनडीए सरकार पर जमकर हमला किया है. किसान कानूनों के बहाने नीतीश सरकार को आड़े हाथों लिया है. तेजस्वी यादव का कहना है कि बिहार के किसान सरकार की नीतियों के चलते दूसरे राज्यों में मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

तेजस्वी का कहना है कि 2006 में नीतीश कुमार और बीजेपी ने मंडी क़ानून बाज़ार समिति समाप्त कर बिहार के किसानों को मज़दूर बना दिया. फसल ख़रीद में भ्रष्टाचार और फसल का उचित दाम नहीं मिलने पर बिहार के किसान दूसरे प्रदेश पेट भरने और मज़दूरी के लिए पलायन करने लगे. अब नीतीश-भाजपा तीन नए काले कृषि क़ानून लाकर किसानों से मज़दूर बने लोगों को भिखारी बनाना चाहते है.

सीएम नीतीश से पूछे सवाल

16 वर्षों के मुख्यमंत्री और बीजेपी जवाब दें कि बिहार के किसानों की आय देश में सबसे कम क्यों है? बिहार के किसानों को मज़दूर बनाने वाली कृषि नीतियाँ लागू करने वाले जवाब दें कि बिहार के किसानों की बदहाली का दोषी कौन?

ये भी पढ़ेंः बिहार में तांडव मचा रहे अपराधी! युवा आरजेडी नेता की गोली मारकर हत्या

बिहार के किसानों का हाल बुरा

बिहार के किसानों की औसत आय केवल 3558 रुपये प्रति माह देश में सबसे कम है जबकि पंजाब के किसानों की आय 18,059 प्रति माह है. दोनों कृषि प्रदेश है फिर भी दोनों के किसानों की आय में बड़ा अंतर है. अगर बिहार में नीतीश भाजपा सरकार द्वारा विगत 14 वर्षों में मंडी और बाज़ार समिति समाप्त नहीं किया गया होता तो यहाँ का किसान मजदूर नहीं बनता.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here