बिहार राज्य अपने विकास की दर को बहुत तेजी से बढ़ा रहा है और इसी के चलते राज्य में सड़के रेल का काम तेजी से चल रहा है कहीं पर स्टेट हाईवे को नेशनल हाईवे में बदला जा रहा है तो कहीं पर मेट्रो की तैयारियां चल रही है।

 

सड़कों को और ज्यादा अच्छे बनाने के लिए काफी परियोजनाएं चलाई जा रही है जिसमें फोरलेन और सिक्स लेन परियोजनाएं शामिल है। और अब बिहार सरकार द्वारा दो फोरलेन परियोजनाएं बनाई जा रही है जिसका काम तेजी से चल रहा है। इन परियोजनाओं के पूरा हो जाने के बाद उत्तरी तथा दक्षिणी बिहार में आना जाना और ज्यादा आसान हो जाएगा। आपको बता दें कि इन परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण का काम शुरू कर दिया गया है।

बक्सर हैदरिया फोरलेन सड़क का निर्माण कार्य जल्द ही शुरू होने वाला है इस सड़क परियोजना की लंबाई 17 किलोमीटर की है। इस परियोजना के द्वारा दिल्ली आना जाना आसान हो जाएगा और अनुमान लगाया जा रहा है कि 2 साल के अंदर अंदर यह काम पूरा हो जाएगा। दूसरी परियोजना बक्सर पटना फोरलेन सड़क है जिसका काम शुरू भी हो गया है। और पिछले 5 सालों से भूमि अधिग्रहण के चक्कर में अटकी हुई पटना–गया–डोभी परियोजना के लिए भी भूमि अधिग्रहित कर ली गई है और इसका काम भी जल्द ही शुरू किया जाएगा।

 

आशा की जा रही है कि इन परियोजनाओं के पूरा होने के बाद दक्षिणी और पश्चिमी बिहार का कनेक्शन पटना से हो जाएगा। बिहार में बन रही इन 2 फोरलेन की सड़कों का खर्चा 4300 करोड़ रूपए होगा।

पटना–गया–डोभी फोरलेन सड़क का निर्माण जापान की सहायता से करवाया जा रहा है जो कि 127 किलोमीटर लंबी सड़क है इसमें 1610 करोड़ रुपए खर्च होने वाले है। इस सड़क का निर्माण कार्य 3 चरणों में पूरा होगा और इस साल के अंत तक काम पूरा हो जाएगा। पटना से बक्सर तक करीब 17 सौ करोड रुपए की लागत से 125 किलोमीटर लंबी फोरलेन सड़क बनवाई जा रही है।