मुजफ्फरपुर. जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम डॉ फारुक अब्दुल्ला धारा 370 के मामले में अपने बयान को लेकर बुरी तरह फंस गए हैं. बता दें कि बिहार की मुजफ़्फ़रपुर कोर्ट में उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया है. मुज़फ़्फ़रपुर सीजेएम कोर्ट ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए वाद को स्वीकार कर लिया है और सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख तय किया है.

धारा 124क, 121क और 504 क तहत मुकदमा दर्ज
यह मुकदमा मुजफ़्फ़रपुर के अधिवक्ता सुधीर ओझा ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मुकेश कुमार की अदालत में दर्ज कराया है. मुकदमा आईपीसी की धारा 124क, 121क और 504 क तहत दर्ज किया गया है.

वादी अधिवक्ता ने पूर्व सीएम पर आरोप लगाया है कि फारुख अब्दुल्लाह चीन और पाकिस्तान के साथ मिलकर देश के खिलाफ साजिश रच रहे हैं.
Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

देश की आवाम को भड़का रहे
वादी के अनुसार फारुख अब्दुल्ला धारा 370 को हटाए जाने के मामले में देश की आवाम को भड़का रहे हैं. उनका यह बयान देश की अस्मिता के खिलाफ है, जिसमें उन्होंने कहा है कि चीन के साथ मिलकर जम्मू कश्मीर में धारा 370 को लागू कराया जाएगा.

इसके लिए डॉ अब्दुल्लाह ने पाकिस्तान से सहयोग लेने की भी बात कही है. आज जबकि चीन और पाकिस्तान से देश के रिश्ते तल्ख हैं वैसे में देश के एक जिम्मेदार नागरिक का यह बयान देशद्रोह के समान है.

ये भी पढ़ें.LJP के बड़े नेता के साथ शरद यादव की बेटी ने थामा कांग्रेस का दामन

जारी तनाव अनुच्छेद 370 हटाने का नतीजा

Get Today’s City News Updates
फारूक अब्दुल्ला ने रविवार को कहा था कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव अनुच्छेद 370 हटाने का नतीजा है. चीन शुरू से इसका विरोध करता रहा है और सीमा पर उसका आक्रामक रुख मोदी सरकार के इस गलत कदम के कारण है. साथ ही कहा कि ‘हमारे अध्यक्ष पिछले वर्ष पांच अगस्त को संसद द्वारा अनुच्छेद 370 और 35-ए के अधिकतर प्रावधानों को रद्द करने पर लोगों के गुस्से को उजागर कर रहे थे, जो हाल के महीने में वह लगातार करते रहे हैं. उन्होंने जोर दिया कि जम्मू-कश्मीर में कोई भी इन बदलावों को स्वीकार करने को तैयार नहीं है.’

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *