आरएलएसपी के जेडीयू में विलय को लेकर उपेंद्र कुशवाहा ने दिया बड़ा बयान, जानिए कहा है

0
6

पटना: बिहार की सियासत में फिर से राम-भरत मिलाप की खबरें मीडिया में तैर रही है. लव-कुश समीकरण के जरिये साथ सियासत करने वाले नीतीश कुमार और आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा फिर से एक साथ आ सकते हैं. ऐसे में चर्चाओं के दौर में कुशवाहा ने बड़ा बयान दिया है.

इस मुद्दे पर दोनों पार्टी के नेता कुछ भी खुलकर बोलने से कतरा रहे हैं. आरएलएसपी सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने आरएलएसपी के जेडीयू में विलय के चर्चाओं के सवाल पर गेंद जेडीयू के पाले में डाल दिया. उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, ” देखिए चर्चा तो मीडिया के लोग ही कर रहे हैं न. चर्चा जो लोग कर रहे हैं, उनसे सवाल पूछिए. मेरी ओर से तो कोई बात ही नहीं है. चर्चा मीडिया के लोग कर रहे हैं, तो इसमें बीच में हम कहां आते हैं. जेडीयू के लोग हैं, उनकी ओर से कुछ बात जरूर की जा रही है और बाकी मीडिया की चर्चा है. इसलिए इस बीच में तो हम कहीं हैं ही नहीं.”

upendra kushwaha

कई दौर की हुई है बात

आरएलएसपी के जेडीयू में विलय को लेकर चर्चाओं को बल तब मिला है जब जेडीयू सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के बीच कई दौर की मुलाकात हुई है. सांसद नीतीश कुमार और कुशवाहा के बीच सेतु का काम कर रहे हैं. दोनों नेताओं की दिल्ली में भी मुलाकात हुई है. सिंह के कुशवाहा के प्रति दिए गए बयान और आरएलएसपी नेताओं के तरफ से बयान का खंडन नहीं करना इस बात को बल दे रहा है.

ये भी पढ़ेंः नीतीश कुमार से फिर मिले उपेंद्र कुशवाहा, सियासी हलचल हुई तेज

दरअसल, इस बात की चर्चा है कि राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का अगले दो हफ्ते में जनता दल (यूनाइटेड) में विलय हो सकता है. वहीं, आरएलएसपी सुप्रीमो और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा को जेडीयू संगठन में महत्वपूर्ण भूमिका दी जा सकती है. नीतीश कुमार कुशवाहा को अपने पाले में लाकर कोयरी और कुर्मी समुदाय (लव-कुश) को एकजुट कर अपनी सियासी ताकत को फिर से बढ़ा सकते हैं. बता दें कि कुशवाहा की पार्टी बिहार विधानसभा 2020 में बसपा के साथ गठबंधन कर चुनाव में भी एक सीट भले ही नहीं जीत पाई. लेकिन दर्जनों सीटों पर जेडीयू को नुकसान पहुंचाया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here