पटनाः बिहार में पुलिस विधेयक को लेकर बिहार में सदन से लेकर सड़क तक बबाल मचा है. मंगलवार को विधानसभा के बाद बुधवार को बिहार विधान परिषद में पुलिस विधेयक को लेकर जमकर हंगामा हुआ. हालात ऐसे हो गए कि देख सदन में मौजूद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिफर पड़े.

विधान परिषद की कार्यवाही सुबह हंगामे के कारण स्थगित हो गई. लेकिन दोपहर 2.30 बजे जैसे ही फिर से कार्यवाही शुरू हुई कि राजद के सदस्यों ने हल्ला करना शुरू कर दिया. देखते ही देखते सत्ता पक्ष और विपक्ष के एमएलसी एक दूसरे से भिड़ गए. सदन में गालीगलौज और हाथापाई की नौबत फिर से आ गयी.

सुबोध राय और नीरज कुमार में भिड़ंत

मंगलवार की घटना को लेकर आरजेडी एमएलसी सुबोध राय बीच में खड़े होकर बोलने लगे और उन्होंने कहा कि विपक्षी विधायकों को सदन में मारा पीटा गया है. उनकी क्या इज्जत रह जाएगी. राजद एमएलसी को विरोध करते देख जदयू एमएलसी नीरज कुमार और संजय सिंह भी खड़े हो गए. उन्होंने कहा कि राजद सदस्य शब्दों की मर्यादा भूल रहे हैं. इस दौरान दोनों पक्ष में तेज बहस शुरू हो गई. वहीं बैठे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी अपनी सीट पर खड़े हुए और बोलना शुरू किया.

सीएम ने विपक्षी विधायकों पर निकाला गुस्सा

सीएम नीतीश कुमार ने विपक्षी सदस्यों के रवैये पर नाराजगी जाहिर की. नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि विपक्ष के विधायक विधानसभा में गुंडागर्दी किये. वे लोग याद करिए कि क्या हुआ था. जनता ने भी देखी है. आप सबको जनता भी ठीक से जवाब देगी. उन्होंने कांग्रेस सदस्यों को कहा कि वे भी राजद के चक्कर में पड़कर अपने आप को बर्बाद कर रहे हैं. विधानसभा में सत्ता पक्ष के लोग शांति से बैठ कर लोग सुन रहे थे, लेकिन ये लोग गुंडागर्दी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः नीतीश के खासमखास अधिकारी को नेता प्रतिपक्ष की चेतावनी, मेरा नाम तेजस्वी है…याद रखो सबका फुटेज है मेरे पास

नीतीश कुमार ने तेज आवाज में कहा कि जिस कार्यक्रम में भाग लेने आए हैं वो कीजिए. इधर की क्या संख्या है और उधर की क्या संख्या है, है पता कुछ. विपक्षी सदस्यों के लगातार हंगामें के बाद सभापति ने सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया. जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने सभापति से राजद सदस्यों पर कार्रवाई की मांग की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here