पटनाः विधानसभा चुनाव से पहले बिहार में तेजी से घटनाक्रम हो रहे हैं. नेता प्रतिपक्ष और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव के आरएलएसपी में सेंध लगाने से सियासत गर्मा गई है. महागठबंधन में आरजेडी कांग्रेस की सहयोगी पार्टी रालोसपा के अलावा वीआईपी ने भी तेजस्वी यादव को सीएम फेस मानने से इनकार कर दिया है. आरएलएसपी ने स्पष्ट किया है कि तेजस्वी यादव उनके नेता नहीं हो सकते.

रालोसपा प्रवक्ता धीरज कुशवाहा का कहना है कि तेजस्वी यादव आरजेडी की तरफ सीएम कैंडिडेट हैं न कि महागठबंधन की ओर से. फिलहाल मुख्यमंत्री के नाम पर महागठबंधन में कोई बात नहीं हुई है. महागठबंधन में सीएम के सबसे योग्य चेहरा उपेंद्र कुशवाहा हैं. उनके पास लंबा राजनीतिक अनुभव है और उन्होंने बिहार के मुद्दे पर पद का त्याग किया है. बिहार के बड़े और अनुभवी नेताओं में उनका नाम आता है.

upendra kushwaha
 उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो)

कुशवाहा को मिला वीआईपी का साथ

वहीं, विकासशील इंसान पार्टी ने महागठबंधन में डिप्टी सीएम की दावेदारी ठोक दी है. वीआईपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव मिश्रा ने मांग करते हुए कहा है कि मुकेश सहनी को उपमुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किया जाना चाहिेए. वहीं, उपेंद्र कुशवाहा के सीएम पद की दावेदारी का समर्थन भी किया है. उन्होंने कहा कि कुशवाहा के पास लंबा राजनीतिक अनुभव है. केंद्र में मंत्री रह चुके हैं. जहां तक युवा की बात है उनके नेता मुकेश सहनी भी युवा नेता हैं.

महागठबंधन में तेजस्वी ही सीएम कैंडिडेट

दूसरी तरफ आरजेडी ने रालोसपा और वीआईपी के दावेदारी को खारिज कर दिया है. आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने बयान को सिरे से दरकिनार करते हुए कहा कि तेजस्वी यादव ही मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होंगे. इस बात पर कांग्रेस के शीर्ष नेता राहुल गांधी ने मुहर लगायी है. इसलिए अब इसपर बात करने की कोई गुंजाइश नहीं है.
Get Daily City News Updates

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *