उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में महाशिवरात्रि के दिन हैरत करने वाली घटना घटी. नौसढ़ चौकी के हरैया गांव में एक अधेड़ महिला मंदिर पूजा-अर्चना करने पहुंची लेकिन वापस उसका पार्थिव शरीर आया. मंदिर में जैसे ही 60 साल की बुजुर्ग महिला ने शिवलिंग पर मत्था टेका वैसे ही उसके प्राण निकल गए. ग्रामीणों का कहना है कि बुजुर्ग महिला रोजाना सुबह चार बजे शिवलिंग पर जल चढ़ाने जाती थी. इस घटना से गांव के सभी लोग हैरान हैं.

जानकारी के मुताबिक मंदिर के पास मौजूद लोगों ने बुजुर्ग महिला को तुरंत उठाया और अस्पताल लेकर गए. जहां पर डॉक्टरों ने महिला को मृत घोषित कर दिया. मंदिर में मौजूद लोगों के मुताबिक 65 वर्षीय जमुना प्रसाद कसौधन अपनी पत्‍नी विभक्ति देवी के साथ महाशिवरात्रि के मौके पर शिव मंदिर में पूजा-अर्चना करने गए थे. सुबह-सुबह 4 बजे दोनों मंदिर पहुंचने के बाद भगवान भोलेनाथ को जलाभिषेक कराया. इसके बाद महिला ने शिवलिंग पर हाथ रखकर मत्‍था टेका. मत्‍था टेकते ही विभक्ति देवी के प्राण निकल गए.

सुबह 4 बजे पूजा करने गई थी मंदिर

मृतक विभक्ति देवी के पोते मेश कुमार ने बताया कि उनकी दादी विभक्ति देवी महाशिवरात्रि के मौके पर सुबह 4 बजे घर के पास बने शिव मंदिर में पूजा करने के लिए गई थी. पूजा करते ही दादी ने जैसे ही शिवलिंग पर मत्था टेका और उनके शरीर में हलचल बंद हो गई. घटना स्थल पर साथ में मौजूद उनके दादा जमुना प्रसाद ने दादी को उठाने के लिए कई बार आवाज लगाई लेकिन वो नहीं उठ सकीं. इसके बाद अस्पताल लेकर पहुंचे.

गांव में मच गया चीख-पुकार

परिजनों का कहना है कि मृत महिला बचपन से ही पूजा पाठ में लीन रहती थीं. शिवरात्रि के मौके पर दर्शन के लिए गई और मंदिर में मत्था टेकते ही उनका निधन हो गया. पड़ोसियों ने बताया कि सुबह जब चीख पुकार मची तो लोग भागते हुए मंदिर पहुंचे, तो देखा कि वह शिवलिंग पर ही गिरी पड़ी हुई है.

गांव वालों ने उन्हें उठाकर बाहर निकाला. पुष्टि के लिए नजदीकी अस्पताल में भी ले गए जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. वहीं, महाशिवरात्रि के मौके पर गोरखपुर में हुई इस घटना की  हर तरफ चर्चा हो रही है. लोग तरह तरह की बातें कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here